जींस पैंट पहनने के दिल दहलाने वाले नुकसान – jeans pant disadvantage and side effects in Hindi

जींस पैंट पहनने के नुकसान – tight jeans pahnane ke nuksan

इस पोस्ट में घूमा-फिराके मैं कुछ भी नही बताने वाला। जो कुछ भी बताऊंगा अपने ऊपर बीती आपबीती के बारे में बताऊंगा। मैंने 12 वर्ष की उम्र में जींस पैंट पहनना शुरू किया और 18 साल की उम्र तक लगातार हर दिन jeans Pant को पहना इन्ही सात सालों में मुझे जींस पैंट पहनने के कितने नुकसान हुए, उसको टुकड़ो में एक दुःख भरी कहानी के रूप में प्रस्तुत कर रहा हूँ। आप खुद पोस्ट पढ़ते-पढ़ते ये महसूस करेंगे की यार ये घटनाक्रम तो मेरे साथ भी हुआ था।

jeans pant se konsi bimariyan hoti hai, tight jeans pehne ke nuksan,

जींस पैंट के प्रति मूर्ख समाज की गलत धरणा (jeans culture facts in india)

मूर्ख समाज की गलत धरणाओं की वजह से मुझे न चाहते हुए भी टाइट जींस पैंट पहननी पड़ी। वो कैसे? भारत में गांव हो या शहर ये कल्चर बन गया है की यदि आप जींस पहनते हैं तो आप अमीर है, पैसे वाले हैं, आप अच्छे है, आप स्मार्ट है। वही सादी फॉर्मल पैंट, पायजामा तथा महँगी फॉर्मल पेन्ट किसी लड़के ने पहन ली तो उसको गरीब समझा जाता है, उस लड़के को ढपोल शंख (कमजोर) समझा जाता है और तो और उसको समाज में ज्यादा इज्जत नही मिलती। इसी कारण मेरे गृह राज्य राजस्थान में यह रिवाज बन गया था की कही भी बाहर उत्सव है, शादी-समारोह है, प्रीतिभोज है, तो वहाँ पर जीन्स पेन्ट पहनकर जाना अनिवार्य है।

टाइट जींस पैंट पहनना खुजली होने का प्रमुख कारण (Guptang mein khujli hone ka kya karan hai)

भारतीय युवाओं में विशेषकर 15 से 25 साल के युवा लड़को में खुजली की समस्या ज्यादा ही होती है। कई बार तो अंडकोष को खुजाने में ही पूरा दिन लग जाता है, नींद खराब हो जाती है, किसी भी काम में मन नही लगता। वैसे तो खुजली होने के कई कारण होते हैं लेकिन अगर आप जीन्स पेन्ट पहनते हैं तो शत प्रतिशत खुजली का मुख्य कारण यही है। मैं खुद भुगतभोगी हूँ। जींस से बहुत ज्यादा पसीना जांघो और अंडकोश में बनता है जिसके कारण खुजली होती है।

जींस पैंट पहनने से लिंग (स्नायु) और अंडकोष पूरी तरह खराब हो जाते हैं। [ itching reason in hindi ]

यह बात मैं अपने व्यक्तिगत अनुवभ के आधार पर बोल रहा हूँ। मुझे बहुत सारी सेक्सुअल समस्या हुई । जैसे; लिंग पर काली लखीर आना, अंडकोष सिकुड़ जाना। क्या होता है की जिस प्रकार पौधों को धूप और हवा नही मिलने से वे मुरझा जाते हैं ठीक उसी प्रकार हमारे सेक्स करने के अंग लिंग व अंडकोष को हवा-धूप ना लगने से वो मुरझा जाते हैं। टाइट जींस पैंट पहनने से सेक्स संबंधित समस्या होती है ये एक प्रसिद्ध योग शिक्षक ने मुझे बताया था। इसी कथन के बाद मैंने उसी दिन अपनी तीन नई जींस पैंट (3 New Branded Denim Jenas Pants) को फ्री मुफ्त में जरूरतमंद को बांट दिए। और आज एक वो दिन है और आज पोस्ट लिखते-लिखते 7 जुलाई, 2022 हो गया अबतक मैंने जीन्स को हाथ नहीं लगाया।

पेट की आंते दब जाती है और सांस लेने में दिक्कत आती है। ( pet ki aant mein dard kyu hota hai? )

आप कितनी भी ढीली-ढाली जीन्स क्यों ना बाजार से खरीद ले उस पर आपको बेल्ट तो लगाना ही पड़ेगा। बेल्ट नही लगाओगे तो पैंट कमर से गिर जायेगा। लेकिन मेरे अनुभव के आधार पर लोग एकदम फिक्स साइज की जीन्स ही लेना पसन्द करते हैं। इसमें सबसे बड़ी समस्या यही है कि पेट संबंधित बहुत सारी बीमारियां आपको होती है। आपने खुद ने इस बात को अनुभव किया होंगा की जिस दिन आप ये अस्वस्थ कपड़ा पहनते हैं उस दिन आपका पेट दर्द होता है और आंतों के दबने से सांस लेने में दिक्कत आती है। आप सही प्रकार से बोल भी नही पाते। यही आंतो में दर्द होने का कारण है।

शरीर में गर्मी पैदा होती है।

यह शत प्रतिशत सत्य है की जींस पैंट शरीर में गर्मी पैदा करती है। बात करे गर्मियों के मौसम की तो एक तरफ तो तीखी गर्मी और दूसरी तरफ जीन्स पेन्ट का प्रकोप दोनो की गर्मी मिलकर शरीर के आंतरिक अंगों की धज्जियां उड़ा देते हैं। आंखे कमजोर हो जाती है, कई प्रकार के अंदुरनी रोग होते हैं। यही शरीर में ज्यादा गर्मी होने का कारण है।

अब तो विदेशी पाश्चात्य संस्कृति में भारत की लड़कियां भी फंस गई (Western Culture influence indian youth)

एक जमाना था जब भारत की लड़कियां अपने-अपने धर्म के अनुसार सूती, खादी या शरीर के लिए उपयुक्त घाघरा-ओना, सलवार-कुर्ती और भी कई प्रकार के अपनी संस्कृति के अनुसार कपड़े पहनती थी। लेकिन आज आप देखेंगे की शहर हो या गांव सभी जगह पर एकदम टाइट जींस पहने हुए लड़कियां घूमती दिखेगी। ना इनसे सही से बैठा जा रहा, ना ही सही से खड़ी रह सकती है फिर भी लोगो को अच्छा दिखाने के लिए फैशन परस्ती में पहन रही है।

भारत में जींस पैंट का आगमन कैसे हुआ? (How Jeans Pants introduce in india)

अंग्रेजी शासन के साथ ही जीन्स पेन्ट का आगमन हमारे देश में हुआ। अंग्रेजी लोगो की ना तो कोई सभ्यता है ना ही कोई संस्कृति। वो तो एक ही स्लोगन पर चलते है ” खाओ, पीओ और भोग करो”। इसलिए जीन्स पेन्ट, सूट-बूट और काला कोट, जेकेट यह सब विदेशी वस्त्र है। अब हुआ यूं की अंग्रेज तो चले गए लेकिन उनके संस्कार और संस्कृति ने अभी तक देश नही छोड़ा है।

जींस पैंट का इतिहास Jeans Pant History In Hindi

जींस पैंट का अविष्कार और सर्वप्रथम उपयोग पाश्चात्य देशों की सेना द्वारा किया गया था। यूरोप की सेना सर्दी (ठंड) से बचने के लिए जींस पैंट पहनती थी। गर्मियों में यूरोप की सेना (Army) भी जींस नही पहनती थी। लेकिन समय के साथ वेस्टन कल्चर के लोगो ने इसको फैशन का रूप दे दिया। तब से अब तक हर कोई जींस पैंट का दीवाना हो गया है।

जींस पैंट का सर्वश्रेष्ठ विकल्प (alternative pants to jeans)

1. Formal Branded Readymade Pant –

फॉर्मल ब्रांडेड रेडीमेड पेन्ट सबसे बढ़िया अस्वस्थ कपड़ो का विकल्प है। ये दिखने में जींस पैंट की तरह ही लगती है। लेकिन है एकदम अच्छी। अगर मेरी बात करू, तो जब से मैंने जीन्स को पहनना छोड़ा है तब से अबतक मैं हर बड़े उत्सव, शादी-समारोह और कार्यक्रम में फॉर्मल पेन्ट ही पहनता हूँ। फॉर्मल एकदम ऊनी वस्त्र और खादी की बनी होती है जिससे किसी प्रकार की स्किन एलर्जी नही होती है।


2. खादी कुर्ता-पायजामा – ये तो हमारे देश की शान है। कुर्ता-पायजामा रंगीन (कलरफुल) भी बाजारों में उपलब्ध है। जो दिखने में भी अच्छे लगते हैं और शरीर के लिए भी उत्तम कपड़े है।

 

3. Night Pant – मैं आपको प्रतिदिन नाईट पेन्ट पहनने को नही बोल रहा हूँ। पूमा, नाइकी और भी कई अच्छे ब्रांड्स के 500 से 700 रुपए के नाईट पैंट बाजार में उपलब्ध है। जिसको आप घर पर, बाजार में घूमते समय आराम से पहन सकते हैं। ये भी शरीर के लिए भी उत्तम कपड़े है। वैसे स्वदेशी कंपनियों के भी नाईट पैंट अच्छी आती है।

 

4. शाम को सोते समय Half pant पहने

मैंने कई लोगों को देखा है शाम को सोते समय भी जीन्स पेन्ट पहनते हैं। सुबह जब वे उठते हैं तो जिंदा लाश बनकर उठते हैं उनके शरीर के अंग-अवयव पूरी तरह ब्लॉक हो जाते हैं। ऐसे में इसका समाधान है सोते समय हाफ-पैंट मतलब चड्डा (निकर) पहनकर सोना है।


आज अपने टाइट जींस पैंट [jeans pant] के नुकसान के बारे में स्वास्थ्य की जानकारी प्राप्त की। यदि आप अच्छे माता-पिता है तो इस पोस्ट से सीखी बातों को आज ही अपने बच्चों को बताए और उन्हें इन हानिकारक कपड़ो से दूर करे। अपने सवाल/सुझाव/विचार नीचे ब्लॉग कॉमेंट बॉक्स में लिखे। पोस्ट को हर जगह पर शेयर करे।

 

इन्हें भी पढ़े [ Related Articles ]

शरीर कमजोर होने का कारण बनती है ये गलत अनहेल्दी फूड की आदतें

टीवी देखने के होश उड़ा देने वाले नुकसान 

एल्यूमीनियम बर्तन के नुकसान

मूर्खो की तरह रेडबुल पीकर अपना पैसा बर्बाद मत करो

योग करने के चमत्कार 

Leave a Comment