योग करने के चमत्कार | My Yoga Success story in Hindi

योग करने के चमत्कार –  My Yoga Success story in Hindi

नमस्कार दोस्तो, आज मैं आपको भारतीय संस्कृति की शान और ऋषियों द्वारा निर्मित एक अद्भुत विद्या योग के बारे में अनसुनी बाते बताऊंगा।  अगर आपके शरीर में कोई शाररिक या मानसिक बीमारी हैं, या कोई भी असाध्य रोग हैं, जो खत्म नही हो रहा, तो आपको यह पोस्ट पूरी पढ़नी चाहिए। क्योंकि इससे आपको एक बहुत अच्छी प्रेरणा मिलेंगी, की मैं अपनी इतनी बीमारियां खत्म कर सकता हैं, तो आप  क्यों नही? आज मैं कोई किताबो से पढ़कर कुछ भी नही बताने वाला बल्कि अपने व्यक्तिगत योग करने से हुये लाभ के बारे में बताउँगा।

yoga success stories in hindi, bimari ke liye konsa yog kare,

 हकलाहट जैसी असंभव बीमारी को किया खत्म

हकलाहट को आप एक बीमारी भी समझ सकते हो और और बुरी आदत भी लेकिन सत्य तो यही हैं, की इसे शुरुआत में ही खत्म नही किया गया तो यह एक बीमारी का रूप धारण कर लेती हैं। मुझे बहुत ज्यादा हकलाहट होती थी, किसी के सामने एक शब्द भी नही बोल पाता था, और हर समय तनाव में रहता था। वैसे अपने भारत देश में बहुत सारे स्टेमरिंग रिसर्च सेंटर हैं, पर उसके इलाज के लिए मेरे पास उस समय इतने पैसे नही थे। और इस बीमारी को खत्म करना भी जरूरी था। फिर मैने इस बीमारी की जड़ को समझा तो मालूम पडा। की सांस लेने की कमी के कारण यह बीमारी होती हैं, और प्राणायाम करने से अपनी श्वास की क्षमता को बढ़ाया जा सकता हैं, फिर मैने अनुलोम विलोम प्राणायाम करना शुरू किया इसके अलावा भ्रामरी व कपालभाती से भी मेरी साँस लेने की क्षमता बढ़ गई। गले को कंठ को सही करने के लिए उदगीत प्राणायाम बहुत  प्रभावशाली रहा, इसमें आपको लंबी गहरी सांस लेकर ओम नाम का उच्चारण करना होता है, अगर आप प्रतिदिन 5 मिनट भी ओम नाम का उच्चारण करते हो। तो आपको बहुत लाभ मिलेंगा। और दोस्तो,  आखिर वो दिन आ ही गया, जब हकलाहट का डर मेरे शरीर से चला गया और अब में सामान्य व्यक्ति की तरह सबसे बात करता हूँ, और मेरे दोस्त, परिवार और रिश्तेदार भी अब हैरान हो जाते हैं, की जो लड़का एक शब्द भी नही बोल पाता था, वो आज किसी भी अनजान व्यक्ति से शुद्ध हिंदी व अंग्रेजी भाषा में बात करता हैं। और दोस्तो आपको जानकार हैरानी होंगी, आज मैंने इस बीमारी को खत्म करने के साथ ही अपने सपनो को भी प्राप्त कर पा रहा हूँ। आज मेरा वलॉगिंग यूटूब चैनल भी हैं। जिसमें मैं अपने यात्रा वृतांत शेयर करता हूँ, यूट्यूब के माध्यम से।

 

योग ने बचाई मेरी आँखे

बचपन में, मैं अपने घर के सामने स्कूल में हॉकी खेलने गया था, हॉकी हम नीम के पेड़ की लकड़ी से खेलते थे, तब उस समय मेरी आंखों में गहरी चोट लग गई थी, वह चश्मा भी 3 नम्बर का लग गया था। फिर आपको तो पता ही हैं, हमारा इंडियन एजुकेशन  सिस्टम कैसा हैं? पढ़ाई का जबरदस्त प्रेशर था, सुबह से लेकर शाम तक पढ़ाई-पढ़ाई तो एक तो पहले से आंख खराब फिर और ये बोझ उसके बाद आ गया स्मार्टफोन का नशा। इस तरह दोस्तो अब कोई उम्मीद नही थी, की मेरी आँखे बचेंगी, और मेरे घर में इतनी सुख-सुविधाएं भी नही थी, की मेरे माता-पिता मुझे एक अच्छी चिकित्सा सुविधा दे सके, और ना ही प्राकृतिक भोजन करने के लिए इतने पैसे थे। फिर मैने एक दिन इंटरनेट पर सर्च किया ‘ आयुर्वेदा टिप्स फ़ॉर आईस ‘ तो फिर योग गुरू रामदेव और आयुर्वेद के विद्वान राजीव दिक्सित जी का वीडियो देखा। और उसके बाद क्या, मैने आँखों पर सम्पूर्ण रिसर्च करके सारे टिप्स लिख दिये और उनको जीवन में उतार दिये, अब मैं आपको सच-सच बताना चाहता हूँ, की नम्बर तो मेरा एक भी कम नही हुआ पर बढ़ा भी नही। और जब से इन योग [ आसन, प्राणायाम ] और आयुर्वेद के नियमो का पालन करना शुरू किया तब से लेकर अबतक मेरी आंखों में कभी जलन-खुजली नही हुई। जबकि मै हर दिन 4 से 5 घन्टे मोबाइल का इस्तेमाल करता हूँ। आंखों के लिए सबसे बढ़िया आयुर्वेद का नियम हैं, सुबह उठते ही अपने मुँह की बाँसी लार को आँख में लगाना। उसके बाद आप तली-भूनी चीजे बिल्कुल ना खाये। और सूर्यनमस्कार व सर्वगासन हर रोज करें। और फल व सब्जियां भरपेट खाये।

जरूर पढ़े –   आँखों की देखभाल करने के लिए बेस्ट टिप्स 

योग करने से हुआ गठिया रोग खत्म

मूर्ख डॉक्टर की लापरवाही से इंजेक्शन सही नही लगाने से मेरे पिछवाड़े में एक गांठ हो गई, जिस पर बहुत प्रकार के बर्फ की सिली को पिघलाया, उस पर गसा लेकिन वो गांठ खत्म ही नही हुई। उसके बाद बहुत सारी एलोपेथी की ट्यूब भी लगाई पर कुछ फर्क नही पड़ा। फिर गंठिया के लिए भी मैंने ‘योग फ़ॉर गठिया ‘सर्च किया तो बहुत सारे टिप्स मिल गये, उसमें से कुछ महत्वपूर्ण बाते मैं आपके साथ शेयर करना चाहता हूँ, ताकि आपको इतने सारे वीडियो देखने ना पड़े।

  • आप जबतक गठिया इलाज करवा रहे हो, या योग के माध्यम से ठीक कर रहे हो, तो आप कुछ भी बाजार की तली-भूनी चीजे नही खाये।
  • घी बिल्कुल ना खाये
  • कोलड्रिंक एंड फास्टफूड तो बिल्कुल ना खाये
  • ग्लोल्डन टिप्स- हर दिन 15 मिनट अनुलोम-विलोम प्राणायाम करो और 6 महीने तक आपकी शरीर की सारी गांठे एक दिन खत्म हो जायेंगी।

जरूर पढ़े –  गठिया रोग (आर्थराइटिस ) का आयुर्वेदिक इलाज

 

योगा करने से हुआ त्वचा रोग खत्म

आपको  यह जानकार आश्चर्य होंगा, की सिर्फ स्किन प्रॉब्लम, पिम्पल्स की वजह से मेरे जिंदगी के दो साल का समय बर्बाद हो गया। हर तरफ़ निराशा थी, पूरे दिन चेहरे को धोना और पिम्पल्स को फोड़ना मुझे बिल्कुल अच्छा नही लगता था। फिर इंटरनेट पर योग के बारे में एक सदवाक्य सुना की जो व्यक्ति प्रतिदिन एक घण्टा योग करता हैं, उसका चेहरा चमकता है। बस फिर क्या था, तब से इसको जीवन में उतार दिया और ये बात सच निकली। इसके अलावा एक और सुझाव यह हैं, की किसी भी प्रकार के सौंदर्य उत्पाद जैसे – साबुन, फेशवॉश चेहरे पर ना लगाये।

जरूर पढ़े –   चेहरे के दाग धब्बे ठीक करने का प्राकृतिक तरीका

 

इन्हें भी पढ़े [ Related Post ]

आत्महत्या क्या है और लोग सुसाइड क्यों करते हैं?

बीमार व्यक्ति की घर पर देखभाल कैसे करें?

कैसे अंग्रेजी दवाई [एलोपैथी मेडिसिन] लोगो को मौत के घाट उतारती है।

ब्रह्म मुहूर्त के फायदे जानकर हैरान हो जाओंगे 

मूर्खो की तरह रेडबुल पीकर अपना पैसा बर्बाद मत करो

फल-कच्ची सब्जीयों से होती है, हर बीमारी जड़ से खत्म

योग निद्रा कैसे करे? योग निंद्रा करने के 25 फायदे

चरक ऋषि के 20 निरोग जीवन जीने के सूत्र

टीवी देखने के होश उड़ा देने वाले नुकसान 

एल्यूमीनियम बर्तन के नुकसान

Leave a Comment