Piles Treatment in Hindi – घर पर ही बवासीर का आयुर्वेदिक और प्राकृतिक तरिके से इलाज करें।

Table of Contents

Piles Treatment in Hindi – घर पर ही बवासीर का आयुर्वेदिक और प्राकृतिक तरिके से इलाज करें।

मेरे पिताजी किराणा की दूकान चलाते हैं जहाँ पर उनको दिन में पाँच से सात घण्टे एक ही कुर्सी पर टिककर बैठना पड़ता है। आपको पता ही होंगा की किराने की रिटेल दुकान में चॉकलेट-बिस्किट हर मिनट तो बिकते है नही तो ऐसे में जबतक दूसरा ग्राहक ना आ जाए तबतक बैठना ही पड़ता है। मेरे पिताजी के बवासीर यानी पाइल्स होने का मुख्य कारण एक ही जगह पर ज्यादा देर तक बैठने को मानते हैं और ये बात काफी हद तक सही भी है क्योकी मैंने अपने मोहल्ले में ऐसे तीन से अधिक बवासीर के मरीजों को देखा है। पहली केस स्टडी मेरे पिता की दे दी, दूसरा उदाहरण मेरे मित्र के पिता जिनका नाम दुर्गाराम जी कुमार है वे सिलाई का काम करते हैं सिलाई के काम में भी पूरे दिन बैठकर कपड़े सीलने होते हैं। तीसरे मरीज की कहानी है मेरे घर के पड़ोसी सेसाराम मीणा जो बोलेरो चारपहिया वाहन चलाते हैं इनको भी गाड़ी चलाते समय दिन में 6 से 7 घण्टे गाड़ी की सीट पट बैठना होता है। मैं आपसे वादा करता हूँ, की इस पोस्ट में ‘Piles natural treatment’ के बारे में बताई गई सारी जानकारी का पालन करके आप कुछ ही महीनों में रोगमुक्त हो जायेगें।

【नोट】 :– बवासीर होने का मुख्य कारण ऊपर के पैराग्राफ में 3+ Piles Patient Case Study के साथ बता दिया है। पहले ये उपरोक्त इंट्रोडक्शन पैराग्राफ पढ़े उसके बाद चिकित्सा की बातों का पालन कीजिए। ताकी जीवनभर के लिए इस बीमारी से छुटकारा मिल जाए।

बवासीर होने के अन्य कारण ( Piles reason / cause in hindi )

राजस्थान में लोग इस बीमारी को मस्सा (Massa) कहते हैं। क्योकी इस क्षेत्र में हिंदी व अंग्रेजी कम बोली जाती है। चलिए अभी जानते अन्य पाइल्स की समस्या के कारण।

  1. जिस आदमी को कब्ज (कॉन्स्टिपेशन) है उस व्यक्ति को बवासीर रोग जरूर होंगा। एसीडिटी, कब्ज और बवासीर यह तीनों बीमारियां एक साथ चलती है।
  2. चाय और कॉफी पीने से भी बवासीर बीमारी होती है क्योकी पेट से जुड़ी लगभग 40 प्रतिशत बीमारियों का कारण चाय है।
  3. ज्यादादेर तक कुर्सी पर बैठना और बिल्कुल भी शाररिक श्रम नही करना भी इसका कारण है।
  4. अत्याधिक मात्रा में नशा करना।
  5. देर रात तक लेट भोजन करना।
  6. फ्रिज का पानी पीना और अधिक मिर्ची और सफेद नमक का सेवन करना।

बवासीर होने पर ये सावधानियां बरतें  (piles precautions)

टॉयलेट पेपर से गुदे की जगह का खून साफ ना करे। वरना आपका बवासीर और बढ़ जायेगा और खून भी आयेगा। जो आपका Toilet paper होता है उस पर कैमिकल होते हैं। इससे बढिया कापुस लो या सूती कपड़ा लेकर उसे गिला करो और अपना ‘गुदा द्वार’ साफ करो।

खूनी बवासीर को जड़ से खत्म कैसे करें (how to cure piles in hindi)

मेरा विश्वास मानिए, खान-पान की आदत सुधार कर, पर्याप्त व्यायाम करके और शुद्ध प्राकृतिक भोजन करके कोई भी इस बवासीर के दर्द को सही कर सकता है और इस बीमारी से छुटकारा पा सकता है। ध्यान रखें बवासीर को अंग्रेजी भाषा में पाइल्स कहते हैं। अभी जानिए वो सारे उपाय और नेचुरल घरेलू इलाज ;

शुद्ध गौ घृत से बवासीर को ठीक करें

यह प्रयोग मेरे पिताजी ने अपने ऊपर किया था और लाभ मिला तो पूरे गांव वालो को बताया। गौ घृत का मतलब शुद्ध भारतीय देशी गाय के गाय का घी को उस स्थान पर लगाना जहाँ बवासीर हुआ है। ऐसा 5 से 10 दिन करें इससे आपको थोड़ी ठंडक भी मिलेंगी और आपका रक्तस्राव (खून बहना) भी बंद होंगा।

 आयुर्वेदिक प्रयोग नम्बर दो

शुद्ध नारियल के तेल में थोड़ी सी हल्दी मिलाकर उंगली से गुदा स्थान (गांड) के अंदर लगा दे। उंगली से जहाँ पर मस्सा पाइल्स हुआ है।

चाय और कॉफी की जगह ये पेय पदार्थ पीएं

चाय और कॉफी का सर्वश्रेष्ठ विकल्प निम्नलिखित है।
1. आयुर्वेदिक चाय
2. लेमन टी
3. हर्बल टी
4. जड़ी बूटी या औषधियों से बनी चायपत्ती।

यह पढ़े –  घर पर हर्बल टी बनाना सीखें

आयुर्वेद के चार नियमो के साथ ही पाइल्स को जड़ से खत्म करें

आयुर्वेद के ऐसे तो हजारों नियम है लेकिन कुछ नियम शरीर का कायाकल्प करने वाले होते हैं। उनमें से चार नियम मैं आपको शॉर्ट में बता देता हूँ

१. सुबह उठते ही बांसी मुंह एक लोटा पानी पीओ
२. खाना खाने के एक घण्टे बाद पानी पीओ
३. ठंडा पानी भूल से ना पीये।
४. घूट – घूट पानी पीएं

यदि आप विस्तार में इन चार नियमो के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं महर्षि वाग्भट जी की मेरे द्वारा लिखित पोस्ट को पढ़े 

कच्चा भोजन बवासीर का रामबाण इलाज

यदि आप दिल पर पत्थर रखकर विश्व प्रसिद्ध  पेड़ पौधों पर आधारित भोजन  का सेवन लगातार 7 दिन से एक महीना करते हैं तो आपका बवासीर जड़ से खत्म हो सकता है। इसके लिए निम्नलिखित स्टेप्स को फॉलो करें;

[१.] सुबह 12 बजे से पहले सिर्फ चार प्रकार के फल खाएं। वो 4 प्रकार के फल सस्ते, महंगे, मौसम के अनुसार जो भी हो जैसे भी हो आपको चार प्रकार के फल सुबह 12 बजे से पहले भर पेट खाना है

[२.] उसके बाद जब आप सुबह का भोजन करो तब भोजन करने से पहले सलाद खाना है। कितना खाना है? आपका वजन ×5 कर दीजिए। उदाहरण आपका वजन 50 किलोग्राम है तो 250 ग्राम कच्ची सब्जी खानी है जिसमें (टमाटर, गाजर, खीरा ककड़ी) आदि वो सब सब्जियां शामिल हैं जिसको कच्चा खाया जा सकता है।

[३.] नम्बर दो पॉइंट को रात्री भोजन में भी पालन करना है। फल सिर्फ दिन में एकबार सुबह बारह बजे से पहले भरपेट खा लेना है। उसके बाद खाने की आवश्यकता नही!

 

FAQ Questions Answers

Q.1) क्या बिना ऑपरेशन और सर्जरी के बवासीर ठीक हो सकता है?

Cure piles without operation and surgery संभव है। इस पोस्ट में बताए सभी Homeopathic, Aayurvedic, Naturopathy, Home Remedy, का उपयोग करके बिना ऑपरेशन, बिना सर्जरी और बिना दवाई के आप खूनी बवासीर को ठीक कर सकते हैं।

Q.2) क्यों आयुर्वेदिक, होम्योपैथी और प्राकृतिक चिकित्सा के डॉक्टर पाइल्स का ऑपरेशन करवाने से मना करते हैं?

क्योकी यह बहुत दर्दनाक होता है। और दर्दनाक ना भी हो तो आपको कुछ घण्टो के लिए बेहोश किया जाता है। सभी भगवान के द्वारा बनाई गई चिकित्सा पद्धतियों के चिकित्सकों का यह मानना है की बवासीर हो या कैंसर जबतक वो बिना चीर-फाड़ सही हो सकती है। तबतक अपना शरीर किसी को भी सुपुर्द ना करे। बिना ऑपरेशन पाइल्स क्या दुनिया की हर बीमारी ठीक हो सकती है।

Q.3) क्या औरतों (female) को भी बवासीर होता है?

जी हाँ, महिलाओं को भी बवासीर होता है। खासकर जब, महिलाएं बच्चे को जन्म देती है तब वहां पर ब्लीडिंग (Bleeding) शुरू हो जाती है। ऐसी स्थिति में महिलाओं को या तो एनिमा लगा दो या उपरोक्त आर्टिकल में बताया गया आयुर्वेदिक नम्बर दो का प्रयोग करे।

Q.4) बवासीर बीमारी क्या है और शरीर के किस जगह पर इसका प्रभाव अधिक पड़ता है?

मल द्वार जिसे गुदा मार्ग भी कहा जाता है उस स्थान पर मल त्यागते समय खून टपकना, दर्द होना उसको बवासीर रोग (Piles Disease) कहते है।

Q.5) क्या इंजेक्शन लगवाने से बवासीर ठीक होता है?

नही। ये एक अस्थायी समाधान है। एलोपैथी चिकित्सा हमेशा रोग को दबाने का काम करती है  मेरे घर के पड़ोसी मरीज का ही उदाहरण दू तो उसने किसी नीम हकीम की बातों में आकर अपने पिछवाड़े में चार-पांच इंजेक्शन ठुकवा दिए। लेकिन नतीजा क्या निकला? उत्तर – शून्य, कुछ भी नही। जैसे ही उस दवाई का असर खत्म हुआ उसकी ये समस्या फिर से शुरू हो गई।

आज आपने बवासीर (Piles) क्यों होता है और उसका आयुर्वेदिक और नेचुरल इलाज के बारे में सम्पूर्ण, सटीक और प्रामाणिक जानकारी प्राप्त की। इनमें से ज्यादातर टिप्स और सलाह महान होम्योपैथी डॉक्टर लिओ रेबेलो वर्ल्ड  ने दिए हैं। और सबसे अच्छी बात सभी प्राकृतिक है।

Audio सुने –

 

इन्हें भी पढ़े [ Related Articles ]

जीवन शक्ति को क्षीण होने से कैसे बचाए? 

जींस पैंट पहनने के नुकसान  (खुली चुनौती इस पोस्ट को पढ़ने के बाद Jeans Pant  पहनना छोड़ देंगे)

शरीर कमजोर होने का कारण बनती है ये गलत अनहेल्दी फूड की आदतें

घर पर पीने का पानी शुद्ध करने के 15 तरीके और घरेलू उपाय

होम्योपैथी की चमत्कारिक दवाईयां 

एक आदर्श योग दिनचर्या सबके लिए ( सुबह -सुबह ये योग आसन-प्रणायाम मैं करता हूँ )

हस्त मुद्रा चिकित्सा के फायदे 

बीमार व्यक्ति की घर पर देखभाल कैसे करें?

 सुबह जल्दी नहाने के फायदे और स्नान करने का सही समय

योग करने के चमत्कार | My Yoga Success story

जानिए, कैसे स्वास्थ्य (Health) आपकी मुट्ठी में है 

टीवी देखने के होश उड़ा देने वाले नुकसान 

एल्यूमीनियम बर्तन के नुकसान

मूर्खो की तरह रेडबुल पीकर अपना पैसा बर्बाद मत करो

आँखों का चश्मा हटाने के लिए 121 तरीके 

स्वस्थ और रोगमुक्त जीवन कैसे जिएं

 

Leave a Comment