आयुर्वेदिक गर्भनिरोधक उपाय – Natural Garbh Nirodhak in Hindi

आयुर्वेदिक गर्भनिरोधक उपाय – Natural Garbh Nirodhak in Hindi

भारत में लाखों-करोड़ों माता-बहने गर्भनिरोधक के लिए खाई जाने वाली अंग्रेजी चिकित्सा पद्धति की गोलियां, पिल्स, इंजेक्शन लेकर अपने गर्भाशय को विकृत कर देती है। इतना ही नही लाखो महिलाएं भारत में गर्भाशय के कैंसर से मर चुकी है। बात सिर्फ यही तक सीमित नहीं है पूरी पोस्ट पढ़ने के बाद आपको और भी ज्यादा विस्तार से इस विषय पर सभी सबूतों और वैज्ञानिक विश्लेषण के साथ जानकारी प्राप्त होंगी। इसमें उन माताओं और बहनों की कोई गलती नही होती क्योंकी हमारे देश में ही नही पूरी दुनिया में दुष्ट मेडिकल माफिया मतलब फार्मा कंपनियों का राज है। आज आप किसी भी बीमारी की दवा के बारे में इंटररनेट या बाजार में किसी से सलाह लेंगे तो दस में से आठ व्यक्ति आपको एलोपैथी चिकित्सा पद्धति  लेने के बारे में ही सुझाव देंगे। ऐसा इसलिए होता है क्योकी जो वास्तविक अच्छा ज्ञान होता है वो छिपा हुआ होता है उसको खोजना पड़ता है। उदाहरण के लिए यदि आपको किसी भी माध्यम से इस पोस्ट के बारे में पता चला गया है तो इसका मतलब आप जीववनभर सेक्स का आनंद भी लेंगे वो भी बिना किसी  ‘Garbhnirodhak Dawaiyo’ या  Pill’  के। क्या ये बड़ी बात नहीं है? आज इस पोस्ट में आपको सभी आयुर्वेदिक, घरेलू और प्राकृतिक गर्भनिरोधक उपाय बताए जायेगे। जिससे की आप इन हानिकारक Medicine, Pill और injection से हमेशा छुटकारा पा सके। साथ ही आपसे शुरुआत में ही एक निवेदन करना चाहता हूँ। मैंने इंटरनेट पर बहुत सारी पोस्ट पढ़ी है जिसमें फालतू के, अंड-शंड छोटे-छोटे उपाय बताए गए हैं जिनका ना तो कोई आधार है और ना ही कोई प्रमाण इसलिए उन तरीको को भूल से ना अपनाए। इस आर्टिकल में आपको सिर्फ 4 तरीके ही बताए जा रहे है लेकिन चारों तरीके शत प्रतिशत आजमाएं हुए, प्रामाणिक (Trusted & Genuine) है।

Audio सुने –

 

सबसे अच्छा भगवान का बनाया हुआ नेचुरल गर्भनिरोधक उपाय

मासिक धर्म (पीरियड) खत्म होने के 14 दिन तक ज्यादा चांस होते हैं गर्भ धारण करने के। वही 14-15 दिन बीत जाने के बाद निन्यानवे प्रतिशत (99%) Chance कम हो जाते हैं। इसलिए आप ध्यान रखें की बिना कोंडम के संभोग करे तो 14 दिन बाद ही सेक्स करे तो बच्चा नही होंगा (गर्भधारण नही होंगा)। इससे किसी प्रकार की कोई परेशानी नही होंगी। चलिए अब इस टॉपिक को थोड़ा विस्तार से और वैज्ञानिक दृष्टि से समझते हैं ; सबसे पहले हर महिला (female) को यह मालूम होना चाहिए कि उसका मासिक धर्म चक्र कितने दिन तक चलता है। किसी का 10, 15, 35, 40 दिन तक, सबका अलग-अलग रहता है। ये हर महिला को मालूम होता है। उदाहरण के लिए आपका पीरियड्स सात दिन का है तो आप 1 से लेकर 7 दिन तक पीरियड में सेक्स नही कर सकते हैं। वही 8 वे दिन से 10 वे दिन मतलब तीन दिन आप संभोग कर सकते हो बिना किसी गर्भनिरोधक के इस्तेमाल किए। क्योंकी इन 【 8,9, 10, 】वे दिन के पीरियड्स के बाद ये सेक्स करने से महिला के गर्भ में अंडा नही बनता है। वही 13 वे दिन से लेकर 17 वे दिन तक Sex बिल्कुल ना करे। इससे गर्भ ठहरने के अवसर (चांस) बढ़ जाते हैं। मतलब महिला गर्भवती हो सकती है। वही 18 वे दिन से 29 वे दिन तक सुरक्षित यौन संबंध बनाने का काल (Safe Sex Zone) होता है। इन दिनों में आप शाररिक संबंध बना सकते हो।

【नोट】– ज्याददतर महिलाओं का मासिक चक्र 30 दिनों का ही होता है और ये ऊपर लिखे दिन कोई तारीख या Date नही है। इसके अलावा अगर आपका मासिक धर्म चक्र तीस दिनों का नही है तो अगर आप 20 से 22 वे दिन भी सेक्स करते हैं तो गर्भ ठहर सकता है। महिला गर्भवती हो सकती है। इसलिए उनसे पूछ लीजिए की तुम्हारा मासिक धर्म चक्र जिसे देशी भाषा में ‘खून की दस्त’ बोलते हैं वो महीने में कितने दिन तक चलता है।

बिना कंडोम के सेक्स ( Sex Without Condom in Hindi )

यदि आपको बिना कंडोम के सेक्स करना पड़े तो वीर्य (Sperm) हमेशा बाहर ही छोड़े। और एकबार संभोग करके दोबारा करने से पहले पेशाब करके जरूर आये। ताकी अंदर रुका हुआ वीर्य बाहर निकल जाए। इस उपाय से भी 99% चांस कम हो जाते है किसी भी महिला के गर्भ धारण होने के। इस बात का सदैव ध्यान रखें की एकबार संभोग करके दोबारा करने का मन हो तो पेशाब करके, अच्छे से लिंग (स्नायु) को साफ पानी से धोकर उसको सूती कपड़े से साफ कर दे। उसके बाद ही अपना लिंग महिला की योनि में प्रविष्ट करे।

नीम के तेल का प्रयोग गर्भनिरोधक में ( Neem oil usage for alternative to Contraceptive pills )

योनि (वैजाइना) के अंदर नीम के तेल का उपयोग गर्भनिरोधक के रूप में किया जाता हैं। 1920 की Study के अनुसार नीम गर्भनिरोधक के रूप में काम करता है। नीम तेल का उपयोग करने से लगभग पांच महीने तक गर्भधारण नहीं कर सकते है। लेकिन इसका असर पांच महीने से ज्यादा नहीं होता है। यानि ये कह सकते हैं की नीम तेल के रोज के उपयोग से सस्ता, प्राकृतिक और असरदार तरीका प्रेग्नेंसी रोकने का ओर कोई दूसरा नही हो सकता। सेक्स करने के पहले वैजाइना (योनि) में नीम का तेल लगाने से आप अनचाहे प्रेगनेंसी को रोक सकते हैं। और सबसे अच्छी बात इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है उल्टा नीम के तेल से योनि में कोई संक्रमण भी नही होंगा। और पहले से कोई भी infection है तो वह नीम के तेल के उपयोग से खत्म हो जायेगा। लेकिन नीम तेल का इस्तेमाल करने से पहले आप एक बार आयुर्वेदिक वैद्य से परामर्श कर लें तभी इस्तेमाल करें।

ब्रह्मचर्य का पालन ( brahmacharya for alternative to Contraceptive pills )

शायद आपको सुनकर थोड़ा सही नही लगे। क्योकी आप बोलेंगे भाई हमें तो संभोग करना है इसके लिए हम आयुर्वेदिक गर्भनिरोधक विकल्प ढूंढ रहे है और तुम तो सेक्स नही करने का बोल रहे हो। तो देखो भाई ये बात तो तुम्हे भी पता है की अत्याधिक वीर्य वेग से क्या होता है। और नही पता तो फीर मेरी बात सुनो हमारे सनातन हिन्दू धर्म  के कई शास्त्रो में ज्यादा शारिरिक संबंध बनाने के क्या नुकसान होते हैं इसके बारे में बहुत कुछ लिखा हुआ है जिसमें से कुछ बाते आपको निम्नलिखित बिंदुओं के माध्यम से बताना चाहता हूं।

[१.] वीर्य एक जीवनशक्ति है अधिक मात्रा में मतलब सप्ताह में तीन – चार बार या पूरे महीने ही सेक्स करने से आपकी शरीर की पूरी ऊर्जा खत्म हो सकती है।

[२] आप अपने आप को दुबला-पतला और कमजोर महसूस करेंगे। और आपको खुद को ये सब करने के बाद बहुत बुरी फिलिंग आयेगी। तीसरी बात अपनी पत्नी को जिस भी समय आप सेक्स करने जा रहे हैं उस समय पूछ लें की क्या वो इस समय शाररिक संबंध बनाने के लिए राजी है।

अब बाती है किस तरह ब्रह्मचर्य का पालन गर्भनिरोधक के रूप में कैसे करें?
इसका Simple & Easy तरीका है। महीने में एकबार ही यौन संबंध स्थापित करें उपरोक्त बताए गए सभी नियमों के साथ। स्त्री को भगवान ने ऐसे हार्मोन्स और कैमिकल्स दिए हैं जिससे वह आसानी से ब्रह्मचर्य का पालन कर सकती है। और पुरुषों के लिए इस संकल्प लेने के लिए अदरक (Ginger) का टुकड़ा मुंह में डाल दें। अदरक सभी संकल्पों को पूरा करने में मदद करता है।

Contraceptive pills Side effects in Hindi

contraceptive pills Side effects in hindi, garbhnirodhak dawa ke nuksan,
कुछ अंग्रेजी दवाइयां हैं, जो गर्भ- निरोधक के रूप में हमारे देश की माताओं और बहनों को दी जाती है। जैसे :- Depo Provera, i-pills, e – pills injection, ये सब इंजेक्शन व गोलिया के रूप में बेचे जाते हैं और इन माताओं-बहनों को दिए जाते हैं। आपको जानकर दुःख होंगा, जिस देश में यह दवाईयां बनती है वहाँ पर यह प्रतिबंधित (Banned) है। वहाँ की सरकार ने बिक्री पर रोक लगा दी है और भारत में यह आज भी धड़ल्ले से बिकती है। ये दवाइयां खाने से गर्भाशय का कैंसर हो जाता है और उन लड़कियों / महिलाओ की मौत हो जाती है। लाखो – करोड़ो माताए-बहने भारत में ये दवाइयां खाकर मर चुकी है।

I Pill Side effects on future pregnancy in hindi (depo provera, i pills, e – pills injection Ke Nuksan)

आई पिल नामक गर्भनिरोधक दवाइया खाने का असर भविष्य की प्रेंग्नेंसी पर बहुत बुरा दुष्प्रभाव पड़ता है। क्योकी आपने ऊपर के पैराग्राफ में इन पिल्स लेने के सारे दुष्प्रभाव और नुकसान के बारे में पढ़ा। मैं आपसे यही गुजारिश करता हूँ। आप चाहे लड़के हो या लड़की, शादी-शुदा हो या अविवाहित उससे भी कोई फर्क नहीं पड़ता, बस ध्यान इस बात का रखना है की इस आर्टिकल के अंदर लिखी गई सारी महत्वपूर्ण जानकारी को अपनी नोटबुक में लिख दे ताकी आप अपना भी भला कर सको और अपने दोस्तों और अन्य लोगो का भी। क्योकी इस ज्ञान के अभाव में करोड़ो लोग दुनियाभर में दुखदायक जीवन व्यतीत करते हैं। लेकिन आज आपको पता चल गया है की भविष्य में आप गर्भधारण करती है तो आपके बच्चे को कई प्रकार की बीमारियां हो सकती है इन अंग्रेजी दवाओ के इस्तेमाल से।

FAQ On Contraceptive pills Medicine in Hindi Me

Q.1) क्या कोंडम (Condom) भी गलत है?

उत्तर – जब आपको ऊपर कोंडम का विकल्प बता दिया है तो फिर क्यों कंडोम का इस्तेमाल करना? यह भी तो अंग्रेजी चिकित्सा का ही हिस्सा है। इन सभी कंडोम बेचने वाली कंपनियों ने लोगो के अंदर ये डर बिठा दिया है की कॉन्डोम लगाकर सेक्स नही करोंगे तो तो एचआईवी एड्स हो जायेगा। आपको ये बात भी सुनकर आज आश्चर्य होंगा की जिस एड्स नामक मानव निर्मित (नकली बीमारी) का सहारा लेकर ये कंपनियां हर साल करोडो-अरबो रुपये के कंडोम बेचती है असल में यह सिर्फ एक डर का व्यापार है। यदि आप या कोई भी व्यक्ति एचआईवी एड्स नामक बीमारी की पूरी सच्चाई सभी सबूतों के साथ प्राप्त करना चाहता है तो नीचे ब्लॉग में कमेंट करें या फिर मुझे ईमेल करे। निष्कर्ष यह है की गर्भनिरोधक के रूप में कंडोम का इस्तेमाल करना बेवकूफी है। एचआईवी एड्स बीमारी का डर डालकर रोगी को जीवनभर नर्क वाली जिंदगी जीनी पड़ती है। इस विषय पर मेरे ब्लॉग पर पीडीएफ पुस्तक भी उपलब्ध है उसको आप All Post पेज में जाकर ढूंढ सकते हो। या फिर इंटरनेट पर लिखे ‘ Hiv Ads Book Internet Gyankosh’ मिल जायेगी।

Q.2) क्या सच में पतंजलि गर्भनिरोधक गोलीया नाम की कोई दवा आती है? (patanjali garbh nirodhak goli oil tablet medicine in hindi)

पतंजलि या कोई भी आयुर्वेदिक दवा निर्माता कंपनी गर्भनिरोधक गोलियां नही बनाती है। और ना ही किसी ग्रंथो में इसका वर्णन है। इंटररनेट पर कुछ लोग इस टॉपिक पर पोस्ट लिखकर झूठ फैला रहे हैं। हालांकि गर्भधारण नहीं होने जेसी समस्या के लिए आयुर्वेद में बहुत सी प्रभावी व अच्छी दवाएं उपलब्ध हैं। लेकिन पतंजलि गर्भनिरोधक नाम की कोई दवा असल में मार्केट में उपलब्ध ही नही है।

 


आज की इस पोस्ट में आपने आयुर्वेदिक गर्भनिरोधक उपाय, natural birth control tips, garbh nirodhak in hindi और Contraceptive pills Ka Vikalp alternative के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त की। इस पोस्ट को अपने दोस्तों और अपने खास लोगो के साथ साझा करें। अपने सवाल /सुझाव / विचार नीचे ब्लॉग कॉमेंट बॉक्स में लिखे।

 

इन्हें भी पढ़े [ Related Articles ]

पुरुष व महिला नसबंदी ऑपरेशन करवाने के नुकसान

 सिजेरियन डिलीवरी के नुकसान

जीवन शक्ति को क्षीण होने से कैसे बचाए? 

शरीर कमजोर होने का कारण बनती है ये गलत अनहेल्दी फूड की आदतें

स्वस्थ और रोगमुक्त जीवन कैसे जिएं 

Leave a Comment