Traditional advertising vs Modern advertising in Hindi | विज्ञापन किसे कहते हैं और इसका महत्व क्या है?

Traditional advertising vs Modern advertising in Hindi | विज्ञापन किसे कहते हैं और इसका महत्व क्या है?

ट्रेडिशनल एडवर्टिजिंग को हिंदी में पारंपरिक विज्ञापन कहते है और मॉडर्न एडवर्टिजमेंट को हिंदी भाषा में आधुनिक विज्ञापन कहते है। आज इक्कीसवीं सदी का जमाना मॉडर्न विज्ञापन का है। जैसे-जैसे समय बीतता जाता है हर प्रकार की टेक्नोलॉजी अपग्रेड होती रहती है। नवीनतम तकनीकों के कारण पुराने आईडिया और स्टार्टअप फेल हो जाते है। इतना प्रस्तावना काफी है अब सीधे मुद्दे की बात करते है। स्वागत है आपका ‘इंटरनेट ज्ञानकोष’ ब्लॉग में।

Traditional advertising क्या है?

ट्रेडिशनल एडवर्टिजिंग को विज्ञापन देने का पारंपरिक या परम्परागत साधन कहते है। इन विज्ञापनों को गरीब, मध्यम वर्गीय और अमीर तीनो कैटेगरी के लोग करवा सकते है। ट्रेडिशनल ऐड के अंदर कितने प्रकार है और उसे कैसे उपयोग किया जाता है उसके बारे में नीचे के उपबिन्दु में पढ़ें।

पारंपरिक विज्ञापन कितने प्रकार के होते है? (Types of traditional advertising in hindi)

TV (Television)- टेलीविजन के माध्यम से अपनी कंपनी या प्रोडक्ट का प्रचार-प्रसार करना, ये परम्परागत विज्ञापन का सबसे महंगा जरिया है। इसके अंदर आपको एक सेकेंड की ऐड का लगभग 20,000 से 24,000/- रूपये टीवी चैनल के मालिक को देना होता है। आपकी Ads जितने लोकप्रिय टीवी प्रोग्राम (धारावाहिक) के पहले, बीच में या बाद में दिखाई जायेगी उतनी ही इसकी कीमत (Cost per Second) बढ़ जायेगी।

Newspaper – अखबार भी पुराने जमाने के एडवर्टिजिंग प्लेटफार्म में सबसे ओल्ड साधन माना जाता है लेकिन ये आज भी उतना ही पॉपुलर है। समाचार पत्र में कोई आम आदमी या छोटी कंपनी का मालिक विज्ञापन नही दे सकता। क्योंकी एक छोटी ऐड लगाने के 2 लाख से 4 लाख रूपये लगते है।

Radio – रेडियो के अंदर जो भी म्यूजिक टेलीकास्ट या FM संगीत चल रहा होता है उसके बीच में जो ब्रेक आता है तब आप अपनी Ad लगा सकते है। इसका खर्चा ना ज्यादा होता है और ना ही कम ये ‘Medium budget ka advertisement platform’ है।

Pamphlet – पेम्पलेट एक तरह का छोटा सा कागज का टुकड़ा होता है। जिस पर आपके विज्ञापन की सामग्री को प्रिंट मशीन में मुद्रित करके लोगो को बांटा जाता हैं। इस तरह के विज्ञापन जब शहर या गांव में नई-नई दुकान लगती है तो उसके उदघाटन के बाद अखबार में डालकर वितरण किये जाते हैं।

Banner & Hording – बैनर तथा होर्डिंग विज्ञापन का सबसे ज्यादा चलने वाला साधन है। ये अक्सर आपने शहर व गांवो के चौराहे पर देखे होंगे। इसको बड़ी-बड़ी कंपनियां उन इलाकों में लगाना पसन्द करती है जहाँ पर यातायात ज्यादा होता है, लोग ज्यादा आते हो।


【मेरे दिल की आवाज】 – आजकल किसी भी भारत के प्राचीन या ऐतिहासिक शहर में चले जाओ सबसे पहले आपको हरामखोर राजनेताओं के पोस्टर और बैनर दिखेगें वो भी जन्मदिन की बधाई का। जहाँ पर सूचना, दिशा-निर्देश, शहर का नाम होना चाहिए वहाँ भी ये नेता अपना विज्ञापन लगाते है, जो बहुत शर्म की बात है।

Celebrities & Famous People – यह ट्रेडिशनल एडवर्टिजिंग का सबसे महंगा साधन है। इसके अंतर्गत सेलेब्रिटीज (एक्टर-हीरोइन) क्रिकेटर व प्रसिद्ध लोगो द्वारा उत्पाद का विज्ञापन करवाया जाता हैं। इस तरह के विज्ञापन सिर्फ़ बड़ी-बड़ी करोडो-अरबो रूपये कमाने वाली कंपनियां ही करती है। इसका Celebrities Advertisement Cost Per Ad – 30 Lac to 50 Lac के करीब होता है। उदाहरण- विराट कोहली जो टीशर्ट पहनते हैं Puma company की वो डील 150 करोड़ में हुई थी। मतलब पूमा इंडिया विराट कोहली को सिर्फ उनका टीशर्ट पहनने के वो भी एक साल के लिए उसका 150 करोड़ दे रही है। आप कहेंगे इतना क्यों? विराट कोहली के चाहने वालों की संख्या 200 से 300 करोड़ है। मतलब कंपनी जितना दे रही है उसका तीन गुना वापस कमाएगी।

Modern advertising क्या है?

मॉडर्न एडवर्टिजमेंट का दूसरा नाम डिजिटल एडवर्टिजिंग है। आधुनिकता में सबकुछ बदल गया तो भले विज्ञापन प्लेटफार्म कैसे पीछे रह सकते हैं। आधुनिक विज्ञापन सस्ते, सुलभ तथा तेज परिणाम देने वाले होते है। आपकी समय की बचत होती है। example – आप गांव या छोटी ढाणी में बैठे हैं तब भी आप वही से पूरे भारत व दुनिया में अपने प्रोडक्ट की बिक्री कर सकते है। मॉडर्न विज्ञापन के फायदे, प्रकार और अन्य महत्वपूर्ण जानकारी के लिए नीचे के सारे पैराग्राफ पढ़े।

आधुनिक विज्ञापन कितने प्रकार के होते है? (Types of modern advertising in hindi)

Social Media Advertisement – इसके अंतर्गत कोई कंपनी या individual फेसबुक, इंस्टाग्राम, टेलीग्राम, ट्विटर, स्नैपचैट व Quora जैसे सोशल मीडिया नेटवर्किंग साइट्स पर अपने विज्ञापन देता है। ये बहुत सस्ते होते हैं और जनता आपको बहुत ज्यादा मिलती है।

Video Advertisement – इसके अंतर्गत हम वीडियो नेटवर्किंग साइट्स पर अपने विज्ञापन देते है। जिसमें इस समय Youtube सबसे लोकप्रिय है। ये विज्ञापन Google AdWords के माध्यम से लगाये जाते हैं जिसके बारे में इसी पोस्ट में जानकारी दी गई है।

Text Content Website Advertisement – इसके अंतर्गत हम ऐसी वेबसाइट या ब्लॉग पर विज्ञापन चलाते हैं जो की अलग-अलग विषयो पर हर दिन उपयोगी जानकारी साझा करती है। उदाहरण के लिए आप मेरे ब्लॉग ‘internet Gyankosh’ पर भी अपने किसी भी Products या सर्विस का विज्ञापन वाजिब दाम में (अपनी इच्छानुसार) कीमत पर दे सकते है। इंटरनेट ज्ञानकोष ब्लॉग जिसे आप पढ़ रहे है। यहाँ पर हर महीने 20,000 Unique Organic Visitors आते है और हर महीने 70,000 से भी ज्यादा Pageviews आते है। Contact us में जाकर मेल कर सकते है।

Application App Advertisement – इसके अंतर्गत हम Android & ios Application पर अपने Ads Run करने होते है। यह तभी सफल होता है जब आपका खुद का कोई स्टार्टअप हो और उसका ऐप्प बनाया हुआ हो।

Influencers Advertisement – इंफ्लून्सर का मतलब होता है किसी विशेष क्षेत्र में विशेषज्ञता प्राप्त व्यक्ति। उदाहरण के लिए;- भारत
में Cricket influencer – विराट कोहली, सचिन तेंदुलकर, महेंद्र सिंह धोनी है। ठीक उसी तरह Body Building/Fitness के इंफ्लून्सर – द ग्रेट खली, पहलवान सुशील कुमार आदि हैं। कहने का सीधा-सीधा मतलब यही है की आपकी कंपनी जिस भी फील्ड/कैटेगरी का प्रोडक्ट बनाती हो उस फील्ड के एक्सपर्ट लोगो के द्वारा अपने प्रोडक्ट का प्रचार करवाये इससे आपको वो ही लोग मिलेंगे जो सीरियस ग्राहक है। Cheapest Influencers आपको ऑनलाइन Youtubers & Website owners (bloggers) मिल जायेंगे।

 डिजिटल विज्ञापन करने के फायदे (online advertising ke fayde)

  1. किसी भी स्थान से बैठकर अपने Ads को Run कर सकते हैं। इससे आपके अमूल्य समय की बचत होती है।
  2. पैसो की बचत होती है। एक लाख का विज्ञापन दस हजार के खर्चे में हो जाता है।
  3. Real time Statics मिलते हैं मतलब आपके ऐड को on time, लाइव कितने लोग विजिट कर रहे है, कितने इम्प्रेशन पड़े सबकुछ डेटा (जानकारी) आप Ads Provider Company से मांग सकते हैं।
  4. सेलेब्रिटीज़ की जी हजूरी नही करनी पड़ेगी। अब आप किसी भी सबसे सस्ते सेलेब्रिटी ( यूट्यूबर व ब्लॉगर) को पकड़ सकते हैं जिनकी Friends Following लाखो में है, उनके साथ समझौता कर सकते हो।
  5. मैनपॉवर की कोस्ट में कटौती या जरुरत नहीं। फिजिकल में आपको विज्ञापन के लिए कम से कम दो आदमी की जरूरत पड़ती थी लेकिन यहाँ पर आपको कोई व्यक्ति भाड़े पर लाने की जरूरत नहीं है।
  6. एकबार सही जगह पर विज्ञापन देने के बाद उसी का पैसा बार-बार मिलता रहेगा। इसके लिए Long term searching, Evergreen content पर विज्ञापन दे। इसके बारे में जानकारी नीचे के पैराग्राफ में दी गई है।

advertisement se Passive income kaise kamaye, Vigyapan se paise kaise kamaye,
बिल्कुल सही पढ़ा, अब आप विज्ञापन से भी पेसिव इनकम कमा सकते हैं! इसके लिए शर्त सिर्फ एक है की आपके पास खुद का कोई डिजिटल या फिजिकल उत्पाद (Product) होना चाहिए। अभी आपको उन यूट्यूबर व ब्लॉगर को खोजना है। जो बहुत पॉपुलर है जिनके हर वीडियो/पोस्ट पर लाखों व्यूज आते है और हमेशा आते रहेंगे। ध्यान रखे न्यूज वेबसाइट पर विज्ञापन ना दे क्योंकी कोई भी न्यूज दो या दस दिन से अधिक नही चलती। Evergreen Ad का मतलब आपने ” Top Must Learn Skills For Online Earning ”  इस पोस्ट पर कोई भी विज्ञापन दोंगे तो उसका Conservation/ Profit जीवनभर मिलेंगा। क्योंकी ऑनलाइन पैसा लोग आज भी कमाना चाहते हैं और आने वाले 50 साल बाद भी। ये कभी बंद नही होने वाला।

ट्रेडिशनल विज्ञापन देने के नुकसान (traditional advertising Cons)

  • पैसा ज्यादा खर्च होता है लेकिन परिणाम इतने अच्छे नही मिलते।
  • सही टारगेटेड ऑडियंस नही मिलती।
  • सब लोगो तक पहुँच नही होती।
  • व्यापार के प्रचार का एरिया सीमित रहता है।
  • लोगो को विश्वास दिलाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती हैं।नुकसान होने का खतरा बना रहता है।
  • आपकी नही चलती। जो अगले वाले ने बोल दिया उतना पैसा आपको देना ही पड़ेगा।

पुराने विज्ञापन तरीको का भविष्य (Future of traditional advertising in hindi)

पुराने विज्ञापनो का भविष्य अंधकारमय है और ये बात सभी टीवी मीडिया व समाचार पत्रों के संपादकों को अच्छी तरह से पता चल गई है तभी तो सारे टीवी चैनलों ने अपना खुद का Youtube Channel बना दिया है, तभी तो न्यूजपेपर आज e-paper का रूप ले चुके है। लोग अब अखबार को मोबाइल में पढ़कर अपना पाँच रुपये बचाते हैं। बात करे होर्डिंग और बैनर की तो अब डिजिटल बैनर चलते हैं। आपने बहुत सारी Ads अपने फोन में इंटरनेट चलाते समय देखी होंगी। जैसे-जैसे लोगो को स्मार्टफोन, लेपटॉप व डिजिटल दुनिया का ज्ञान होता जाएगा वैसे-वैसे ट्रेडिशनल एडवर्टिजिंग का दौर खत्म होता जायेगा।

Price Comparison between traditional advertising and digital online advertising

Traditional Advertising Cost 1 Day For 10 Lakh impression

एक दिन में ट्रेडिशनल वाला आपसे कम से कम 10,000/- से 20,000/- रूपये लेंगा। चाहे Ad Format छोटा हो या बड़ा उससे कोई फर्क नहीं पड़ता।

 


Modern advertisement Cost 1 Day For 10 Lakh impression

 
वही पर आधुनिक विज्ञापन तकनीक से आप मात्र 1,000 रूपये में इस टारगेट को हासिल कर सकते है। अब यह मैं आप पर छोड़ता हूँ की आप किस तकनीक को अपनाएंगे।

ऑनलाइन विज्ञापन कैसे दे और कहाँ पर दे? (Right Place for online advertisement Hindi me)

ऑनलाइन विज्ञापन देने के लिए सबसे अच्छी जगह फेसबुक, इंस्टाग्राम और यूटयूब है। जहाँ पर आप अपनी Targeted Audience तक पहुँच सकते है। गूगल आपको इतनी पारदर्शीता और फिल्टर देता है की किस भाषा में, किस क्षेत्र में, किस तरह की ऐड दिखानी है सबकुछ आप अपनी भाषा में सेट करके ऑनलाइन कैंपेन चला सकते है। इसके लिए आपको Google AdWords account बनाना होंगा। यह पर आप signup करके जितना आपका बजट है, उतने की ऐड एक टाइम लिमिट के साथ लगा सकते हो। उसके देखने वालों की संख्या (impression), कितने लोगों ने आपके विज्ञापन पर क्लिक किया, सबकुछ Google AdWords के एप्प में आप देख सकते है।


आज आपने ट्रेडिशनल और मॉडर्न यानी डिजिटल विज्ञापन क्या है, इसके फायदे, नुकसान व भविष्य के बारे में जानकारी प्राप्त की। अपने सवाल/सुझाव/विचार नीचे ब्लॉग कॉमेंट सेक्शन में लिखे। पोस्ट को हर ऑनलाइन काम करने वाले बंधे-बंधी के साथ शेयर करे।

इन्हें भी पढ़े [Related Articles]

एक ऑनलाइन काम करने वाले की जिंदगी कैसी होती है? 

भारत के सभी राज्य और केंद्रशासित प्रदेश

रात को बचे हुए इंटरनेट बेलेंस का क्या करे? 

टेक्नोलॉजी के बारे में रौचक तथ्य 

इंटरनेट के बारे में अनसुने रौचक तथ्य

 

Leave a Comment