The China Study Diet Plan in Hindi – फल-कच्ची सब्जीयों से करे हर बीमारी को जड़ से खत्म

The China Study Diet Plan in Hindi 

पेड़-पौधों पर आधारित भोजन जेसे फल, सब्जियां, सूखे मेवे, अंकुरित अनाज, यह सभी प्राकृतिक भोजन प्लांट बेस्ड फ़ूड की श्रेणी में आता है। इस क्रांतिकारी भोजन आहार दिनचर्या से टीबी, कैंसर, यौन रोग, बुखार, खांसी, जुकाम, एलर्जी जैसी छोटी से बड़ी बीमारियां चुटकियों में खत्म हो सकती है। आज इस पोस्ट के माध्यम से आप  the china study diet plan फ़ूड डाइट क्या है? कैसे काम करती है? और हमे क्यो इसे अपने सुबह व शाम के भोजन का हिस्सा बनना चाहिए? इन सभी विषयों पर खुलकर बात करेंगे।

Plants Based Diet Benefits in Hindi प्लांट बेस्ड फूड खाने के फायदे

वैसे तो शरीर की ऐसी कोई मानसिक तथा शाररिक बीमारी नही होंगी जो पेड़ पौधों से प्राप्त भोजन से ठीक नहीं होती हो, लेकिन यहाँ पर मैं कुछ महत्वपूर्ण फायदे बता रहा हूँ जिसे पढ़कर आप दंग रह जाएंगे। लेकिन ध्यान रहे, ये नीचे लिखे फायदे उसी व्यक्ति को मिलेंगे जो इस पूरी पोस्ट को पढ़ेंगे क्योकी कुछ चीजों का परहेज भी करना पड़ता है।

1. डायबिटीज टाइप 1 और टाइप 2 ठीक नही होता पूरा खत्म हो जाता है। इसके अलावा बी.पी की रोज की दवाइयां खाने से मुक्ति मिलती है।

2. एलर्जी, साइनस रोग, सिर दर्द, मिर्गी का दौरा रोग ठीक हो जाता है।

3. शरीर में पूरे दिन ताज़गी व स्फूर्ति रहती है। आपको प्रकृति माता एक विशेष शक्ति प्रदान करती है। क्योकी आप उनके द्वारा बनाये गए आहार को ग्रहण करते हैं।

4. कैंसर, गठिया रोग ( शरीर में किसी जगह पर गांठ बन जाना ) पूरी तरह ठीक होता है। 

5. शरीर के खून की सफाई होती है। पांचन तंत्र मजबूत होता है। इसके अलावा घुटनो के दर्द से छुटकारा मिलेंगा।

6. इस डाइट को लेने के बाद आपको आयुर्वेदिक नियम व योग,व्यायाम, प्राणायाम  करने की आवश्यकता नही पड़ेंगी।

7. आलस, चिंता, तनाव कम होंगा व काम करने की ऊर्जा मिलेंगी। इसके अलावा आपकी आयु बढ़ेंगी, आपके चेहरे पर ग्लो यानी सुंदरता आयेगी।

8. ऐसी कुल 30,000 से अधिक बीमरियां इस डाइट के सात दिन से एक महीना लगातार लेने से ठीक हो सकती है।

Plant Based Protein Powder लेने के नुकसान

मैं चाहता तो इस प्रोटीन पाउडर के फायदे गिनवाकर कमाई कर सकता था। चूंकि यह पोस्ट जिस टॉपिक पर लिखी गई है उसी की विचारधारा यह है की जो प्रोटीन आपको कच्ची सब्जी और ताजे फलों से प्राप्त होता है वही प्रोटीन काम का है। प्रोटीन पाउडर से खाया प्रोटीन कोई लाभ नही देता है। उल्टा आपके अंदर बहुत सारी पेट की बीमरियां पैदा कर देता है। इसके अलावा मैं उन उत्पादों का भी प्रचार नही करता जो मैं खुद इस्तेमाल नही करता।

Plants Based Protein Powder pros and cons in Hindi 

एक भी फायदा नही है जब भी आप ऐसा उत्पाद खरीदते हैं जो रिफाइंड या डिब्बाबंद है तो वो प्रोडक्ट आपको कोई लाभ नही करता। इसका एक दूसरा उदाहरण अंग्रेजी दवाई ( एलोपैथी ) का लेते है। जो आप विटामिन A,BC,D,X,Y,Z की गोलियां खाते है उससे एक प्रतिशत भी विटामिन नही मिलता क्योकी उसको आपने गलत तरीके से खाया। वही आपको ‘विटामिन C ‘ चाहिए तो मात्र आपको एक आंवला या एक संतरा खाना है।

प्लांट बेस्ड भोजन करने वाला और Meat Eater कौन लंबा जीयेगा?

जाहिर सी बात है जो फल और कच्ची सब्जियां, नेचुरल फ़ूड खाता है वह व्यक्ति ज्यादा दिन तक जीयेगा। ऐसा कई बड़ी बड़ी स्टडी में प्रमाणित हो चुका है। इसका उदाहरण भी इसी पोस्ट में दिया गया है।

पूरी दुनिया में Plant Based Food का कांसेप्ट यहाँ से निकला!! द चाइना स्टडी डाइट प्लान का अविष्कार किसने किया?

आपको subtitle को पढ़कर ऐसा लग रहा होंगा की इसको किसी Chinese व्यक्ति ने बनाई होंगी या चीन देश से यह आहार आया। जबकी ऐसा बिल्कुल नहीं है। सिर्फ इसका नाम ‘ द चाईना स्टडी ‘ है। चीन के लोग तो फल-सब्जियों का शायद ही मुंह देखते होंगे। बरहाल, काम की बात पर आते हैं। The China Study को अबतक की सबसे बड़ी डाइट केस स्टडी माना जाता है। इसकी खोज टी. कॉलिन कैंपबेल और थॉमस एम. कैंपबेल नाम के फ़ूड वैज्ञानिकों ने की थी। इसमें बताया गया था की, किस प्रकार डेयरी उत्पाद (Dairy Products) तथा मीट (मांसाहार) आपकी बड़ी-बड़ी बीमारियों का कारण बनता है। अगर कम शब्दों में, मैं अपनी बात को खत्म करू तो इस फ़ूड रिसर्च का मुख्य सार यही है की आपको ऐसा कोई भी उत्पाद नही खाना है जो जानवर के शरीर से निकलता है। दूसरी चीज आपको कच्ची सब्जी व फल पेट भरकर खाने है जिसके ऊपर एक Dedicated Article लिखा हुआ है इस पैराग्राफ के खत्म होते ही उसको पढ़े। आप ऑफलाइन भी The China Study Book खरीदकर पढ़ सकते है। अगर आप हिंदी में बुक पढ़ना चाहते है तो नीचे लिंक है।


यह भी पढ़े –  The China Study Book In Hindi Pdf Download 

लेकिन अखाद्य भोजन को भी छोड़ना पड़ेंगा तभी Plants Based Food काम करेंगा

अखाद्य का अंग्रेजी में मतलब है अनहेल्दी फ़ूड। आप चाहते है की इस डाइट का पहले दिन से ही आपको चमत्कारी परिणाम मिले तो सबसे पहले आपको शरीर को नुकसान पहुंचाने वाली चीजों को छोड़ना पड़ेंगा। जिसमें शक्कर, नमक, रिफाइंड तेल, मैदा जेसी बहुत सारी चीजें शामिल हैं। सम्पूर्ण लिस्ट व उपरोक्त चीजो को क्यों ना खाएं इसका कारण जानने के लिए नीचे दी गई पोस्ट पढ़े

यह भी पढ़े –  शरीर कमजोर होने का कारण बनती है ये गलत अनहेल्दी फूड की आदतें

Plant Based Meat In Hindi (Vegetarian Meat क्या है?)

प्लांट बेस्ड मीट या वेजेटेरियन मीट का मतलब शाकाहारी मांस होता है। जिन्हें आप Vegan Meat भी बोल सकते हैं। इसके अंदर भारत व दुनिया की कुछ गिनी-चुनी नामी कंपनियां है जो ‘शाकाहारी मांस’ से बने उत्पादों को बनाती है। इसकी मांग दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। इसके बहुत कारण तथा फायदे है जो मैं आपको अभी बिन्दुओ के माध्यम से बताना चाहता हूं।

Veggie/Vegan/Vegetarian Meat Health Benefits 

  • अब लोगो को पता चलने लग गया है की मांसाहार (नॉनवेज) खाने का कोई भी फायदा नही है उल्टा नुकसान ही नुकसान है। इसी हेल्थ issue के कारण लोग अभी शाकाहारी मांस खाने की ओर अग्रसर हो रहे हैं।
  • इसके अलावा बहुत सारे लोग अपने धर्म के रीति-रिवाजों के कारण भी नॉनवेज नही खा पाते। जो एक अच्छी बात है। वेसे पशु को मारने से पर्यावरण में असुंतलन बढ़ जाता है।
  • वेजेटेरियन मीट से हमारे पशु-पक्षियों की हत्या नही होती है।


यह भी पढ़े –  पशु-पक्षी प्रेमियों के लिए महत्वपूर्ण आर्टिकल 

Ped Podho Par Aadharit Bhojan Par Aapke Sawal Mere Jawab

Plant Based burger, Pizza, sandwich, fastfood Mil Saktaa hai?

जी हाँ, आप घर पर ही प्लांट बेस्ड फ़ूड का नेचुरल बर्गर, पिज़्ज़ा, चॉकलेट, स्मूथी, फ्रूट शेक बनाकर खा सकते है। ये सब बाजार के फास्टफूड से अधिक स्वादिष्ट व आसानी से पचने वाला भोजन है।

A Plants based life possible for middle class and poor people?

जी बिल्कुल, गांव का एक सामान्य गरीब प्रतिदिन 100 रूपये अपने जीवन को बर्बाद करने में मतलब गलत फ़ूड खाने में खर्च करता है उसकी जगह वो ये फल-सब्जियां आसानी से उपभोग कर सकता है

a plant based diet for beginners in hindi

फिलहाल तो आप सिर्फ एक बात का ध्यान रखें की सुबह 12 बजे से पहले-पहले आपको सिर्फ चार प्रकार के फल खाने है। कितने खाने है जितना आप खा सकते हैं। कोशिश करे 400 ग्राम से 500 ग्राम खाने की।

plant based meal Vs Vegan Diet Vs Natural Food Kya hai?

तीनो एक ही है। नाम अलग-अलग रखा गया है। लेकिन ज्यादातर लोग इन तीन कीवर्ड पर उलझन में पड़ जाते हैं।



इस तरह आपने प्लांट बेस्ड फ़ूड के बारे में सबकुछ जाना । इस पोस्ट को उन लोगो तक जरूर पहुँचाने की कृपा करें जो फल व सब्जियों का काम तो करते हैं लेकिन उनको खाते नही। उन लोगो के साथ भी साझा करें जो World best diet ढूंढ रहे हैं  आपके सवाल नींचे ब्लॉग कॉमेंट बॉक्स में लिखे। 


इन्हें भी पढ़े [ Related Articles ]

Plant Based Food क्या है? पेड़-पौधों पर आधारित भोजन करने के फायदे

 Vegan kya Hota Hai? वीगन डाइट के फायदे | Veganism in india Hindi Me

Naturopathy in Hindi – प्राकृतिक चिकित्सा के फायदे व सम्पूर्ण जानकारी।

मानसिक स्वास्थ्य कैसे ठीक करे?

टेलीविजन के लाभ और हानि

योग निद्रा कैसे करे? योग निंद्रा करने के 25 फायदे

सुबह जल्दी उठने के 100 फायदे! 

बीमार व्यक्ति की घर पर देखभाल कैसे करें?

आँखों की देखभाल कैसे करें?

 सूर्य नमस्कार कैसे करे?

Leave a Comment