पशु-पक्षी प्रेमियों के लिए महत्वपूर्ण आर्टिकल – Animal Lover Quotes in Hindi

Table of Contents

पशु-पक्षी प्रेमियों के लिए महत्वपूर्ण आर्टिकल – Animal Lover Quotes in Hindi

ये पोस्ट उन सभी लोगो के लिए है जो पशु पक्षियों से प्यार करते हैं। जो ये सोच रखते हैं की मनुष्य और जानवर में कोई अंतर नहीं है। इस पोस्ट में अपने दिल की हर एक बात को कोट्स के माध्यम से समझाने की कोशिश करूंगा। इसके अलावा बहुत सारी अच्छी बातें पैराग्राफ में समझाने की कोशिश करूंगा। सभी एनिमल लवर इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़े तथा जो लोग पशुओं को अपना भोजन मानते हैं वे भी पढ़े ताकी वे उनके दुःख को समझ सके।

पशु-पक्षी प्रेमी लोगो के लिए अच्छे विचार [ Best Quotes For Birds and Animal Lover ] 


#1. इंसानो और जानवरों में कोई भी फर्क नहीं है यहाँ तक सोच का भी नहीं। पहले मुझे भी लगता था की सोच का होंगा। परन्तु कैसे? आपने सुना होंगा इस बांध व तालाब में आये विदेशी पक्षी! दिमाग खुला? इन पक्षियों को भारत (india) तक पहुँचने में हजारों किलोमीटर की यात्रा की होंगी और वापस समय आने पर दोबारा उसी रास्ते से गये होंगे। अभी सोचने वाली बात यह है की उनके पास ना तो गूगल मैप है और ना ही Gps तो उनको ये सही मार्ग कौन बताता है? इस तरह आप ये मान सकते हैं की ये जानवर बहुत बुद्धिमान होते हैं।

 


#2. बहुत सारे लोग जानवरों से बात तो करते हैं लेकिन काफी सारे लोग उनको सुनते नही। यही समस्या है।



#3. घर पर कुछ खाना ज्यादा बनाया करो। मेरा सभी देशवासियों से निवेदन है की बाहर कोई आस लगाए बैठा रहता है की कोई खाना लाकर देंगा।

 

#4. पशुओं से प्रेम करना सीखें और पूरी दुनिया को प्रेम करना सिखाए।

 


#5. एक जानवर की आंखों में भाषा बोलने की एक महान शक्ति होती है।

 

#6. जानवर जरूर हूँ पर हर अच्छी बुरी बात महसूस होती है।

#7. फुर्सत नहीं इंसानो को हाल पूछने की, जानवरों ने अब दर्द समझ लिया इंसान का।

#8. एक जानवर भगवान की मूर्ति से बोलता है की तुम पत्थर हो फिर भी तुम्हे लोग पूजते हैं। मेरे में जान है इसलिए इंसान मुझे मारता है।

#9. वन्य जीवों की रक्षा करना हमारा कर्तव्य है।

#10. इन बेजुबान पर अत्याचार ना करें इनका सहारा बने।

#11. जीव-जगत के सभी प्राणि किसी न किसी मकसद से इस धरती पर है।

#12. पुरी दुनिया में सबसे अधिक चिड़िया, जीव-जंतु भारत के जंगलों में पाये जाते है। जंगलो के अलावा भारत के हर राज्य में विभिन्न प्रकार के जीव-जंतु पाये जाते हैं।


#13. अगर स्वास्थ्य की बात करे तो सभी जानवर इंसानो से ज्यादा फिट और सेहतमंद जीवन जीते हैं। क्योकी इनको प्रकृति माता से पहले ही ज्ञान प्राप्त हो जाता है की क्या खाना है और कब खाना है।

 

 राजस्थान की विलुप्त होती कुछ एनिमल्स व बर्ड्स प्रजातियों को कैसे बचाये?

मैं राजस्थान से हूँ, इसलिए इन विलुप्त होती जानवरों की खूबसूरत प्रजातियों के बारे में बता सकता हूँ। मुझे ऐसा लगता है ऐसा भारत देश के हर राज्य में है जहां पर किसी न किसी कारण कुछ दुर्लभ प्रजाति के पशु-पक्षी समाप्त हो रहे हैं। सबसे पहले मैं बात कर रहा हूँ तोते प्रजाति की जो हरा रंग का होता है व उसकी चोंच लाल रंग की होती हैं। ये अक्सर शिकारियो के शिकार होते जा रहे हैं। उसके बाद में बात आती है गहरे-भूरे चॉकलेटी रंग की चिड़िया के बारे में, ये छोटी सी चिड़िया इतनी सुंदर है की आप इसको देखने के बाद अपनी नजर को इधर से उधर नही फेर सकते हो। ये अक्सर गाँव में ही देखी जाती है। लेकिन अभी कभी कभी ही ये नजर आती है।

 

क्या कारण है जानवरों की प्रजातियों के विलुप्त होने का? ( endangered animals in Hindi )

1. पहला कारण बढ़ता रेडिएशन। आज विकिरण (Radiation) सिर्फ मोबाइल टॉवर से ही नही आता बल्की आपके घर व दुकान में उपयोग होने वाले हर इलेक्ट्रॉनिक व डिजिटल उपकरण में होता है। जिसमें Wifi Routers, Powerbank, Mobile आदि शामिल है। इनसे बहुत खतरनाक तरंगे निकलती है इसके कारण हर दिन लाखो पशु-पक्षियों की जान जाती हैं।

2. हम पशु-पक्षियों को वो भोजन खिला रहे हैं जो हम खाते हैं यह बात सत्य है अगर आपको पता नही तो वो आपका अज्ञान है। हम सुबह से शाम तक 90% गलत भोजन करते हैं और उससे भी दुःखद बात यह है की उसको गलत समय पर खाते हैं।

3. मांस यानी नॉनवेज को हेल्थ के साथ जोड़ना भी बहुत बड़ा कारण है। कुछ लोगो ने पशुओं को मारना ही अपना रोजगार बना दिया है। जो बहुत चिंताजनक बात है।

4. अगर इन राक्षसों को इस बात का पता चल जाये की मांस खाने से शरीर का कोई भी फायदा नही होता उल्टा नुकसान ही नुकसान है। तो काफी हद तक पशुओं को कटने से बचाया जा सकता है।

पशु-पक्षी की कहानी [ Heart touching animal story in Hindi ]

ये कहानी हमें जानवरो के महत्व, लाभ व अच्छी समझ देती है इस कहानी को पढ़ने के बाद आपको एक सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त होंगी। एक गांव में अनुभवी समझदार वृद्ध पुरूष रहता था जिसकी उम्र 80 के ऊपर होंगी। वो बुजुर्ग पशु प्रेमी था इसलिए उसके घर में गाय, कुत्ता, बिल्ली सभी पालतू जानवर पाले हुए थे। इसके अलावा उसके घर में सात सदस्य ओर थे। एक दिन उसके (बूढ़े व्यक्ति) के घर में जिस जगह पर काली चींटिया आती थी, वो कही छुप गई मतलब उस दिन नही आई, उसका कुत्ता और बिल्ली भी भाग गये, गाय भी खुट्टी से बंधी हुई थी उसने भी केसे भी करके रस्सी को तोड़कर भाग गई। ऐसे में उस बुड्ढ़े व्यक्ति को ये अहसास हो गया की जरूर कोई न कोई अनहोनी होने वाली है उसने अपने सारे परिवार सदस्यों को कहा की घर को छोड़कर कई दूर चले जाते हैं कुछ दिनों बाद वापस आ जायेंगे। लेकिन उस बुड्ढ़े व्यक्ति के सभी परिवार वालो ने उसका मजाक उड़ाया। लेकिन बुड्ढ़े आदमी ने अपने ज्ञान के अनुसार अपने पालतू जानवरों के संकेत पर घर छोडकर चले गए। इसके बाद जो हुआ वो घटना आपको अंदर से झकझोर देंगी। उसी दिन जब वो बुड्ढ़े आदमी व जानवर घर छोड़कर गए उस दिन गांव में जबरदस्त बाढ़ और तूफान आया। जिसमें आधा गांव खत्म हो गया। जब कुछ दिनों बाद वह व्यक्ति अपने घर लौटा तो उसका एक भी परिवार का सदस्य जिंदा नही बचा। इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है की जानवर इंसान से ज्यादा बुद्धिमान होते हैं। सभी जीव-जंतुओं को यह पहले से मालूम होता है की क्या आपदा-विपदा आने वाली है। इसलिए वे किसी सुरक्षित जगह पर जाकर छुप जाते हैं।

पशु और पक्षी का महत्व

चाहें भारत हो या दुनिया का कोई भी देश। इस बात का ध्यान रखें बिना जानवरों के आप इस दुनिया को नही चला सकते हैं। इस पृथ्वी के संतुलन में पशुओं-पक्षियों, जीव-जंतुओं, सूक्ष्म जीव-जंतुओं का बहुत योगदान है। अगर मनुष्यों की जनसंख्या अधिक हो जाये और जीवों की संख्या कम हो जाये तो पूरी सृष्टि समाप्त हो जायेगी। ये जीव हम मनुष्यों को नुकसान पहुंचाने में वाले सूक्ष्म किट-पतंगों को खाते हैं। हर जीव किसी न किसी दूसरे जीव पर निर्भर है।

Animal Lover Atoz

पशु पक्षियों के लिए एक खूबसूरत शायरी 5 लाइन में बताइये

है इंसान, भगवान ने तुझे जो शक्तियां दी वो मुझे भी दी, लेकिन इसके बावजूद तू जिंदगी भर बीमार रहता है तथा मैं बिना किसी दवाई व डॉक्टर के जीवन भर स्वस्थ रहता हूँ। और अगर आज मैं बीमार भी होता हूँ तो मनुष्य दिनचर्या के कारण। क्योकी हमारी दिनचर्या अलग है।

 

पशु पक्षी में अंतर बताइए

[ पशु का अर्थ ] -वो जीव जो चल सकता है, जिसके पैर और हाथ होते हैं उसे पशु कहते हैं।

[ पक्षी का अर्थ ] – वो जीव जिसके पंख होता है,
जो उड़ सकता है, जिसके हाथ नही होते है उसे पक्षी कहते हैं।


पशु पक्षी पर एक लघु कविता
“चींटी को देखा?
वो सरल, विरल, काली रेखा।
तम के तागे सी, जो हिल डुल,
चलती लघुपद, पल पल मिल जुल।


मनुष्य व पशु के दर्द पर एक शायरी

आँसू चाहे जानवर के हो या इंसान के ये तभी बाहर निकलते हैं जब दिल में बहुत दर्द भरा हुआ होता है।

पशु पक्षियों को पालना कठिन है या नहीं?

देखिए, कोई भी चीज मुश्किल या कठिन तब होती है जब आप उस काम को मजबूरी में करते हो या किसी के दबाव के कारण करते हो। यही बात जानवरों के पालन-पोषण पर भी है। आप एकबार अपने छोटे से घर में या थोड़ी खाली जमीन लेकर एक बाड़ा बनाये उसमें एक मुर्गा रखे, एक गाय और एक बकरी। शुरुआत इन तीन जानवरों से करें उसके बाद आप अपने पसन्द के पशु-पक्षियों को और ला सकते हैं। इस बात का ध्यान रखें सभी शाकाहारी जानवरों को ही पाले ताकी कोई भी जीव एक दूसरे को नही खाये। उदाहरण आपने बिल्ली व कुत्ते को साथ-साथ पाला तो आपका कुत्ता आपकी प्यारी बिल्ली को खा जायेगा। वेसे जानवर पालना बहुत आसान है उन लोगो के लिए जो पशु प्रेमी है। सच में एकबार करे तो सही आपको एक अलग स्तर का आनंद आयेगा। मेरे गोदाम के पास ही इस तरह का बाड़ा बना हुआ है जिसकी मैं बात कर रहा हूँ, वहाँ पर दो मुर्गे है, एक बकरी है तथा एक गाय है। उस पशुओं के घर (बाड़े) में जाते ही जब आप उनको गौर से देखेंगे तो आप पायेंगे, अनुभव करेंगे की प्रकृति ने इनको भी किसी विशेष उद्देश्य के कारण बनाया है।

पशु-पक्षियों से जुड़े शकुन-अपशकुन

पहले शकुन की बात करते हैं यह बात सत्य है की भारतीय देशी गाय (गौमाता) के सुबह-सुबह दर्शन करने से या फिर आप किसी भी विशेष काम की दृष्टि से बाहर जा रहे हो तो गाय के दर्शन जरूर करें। भरतीय गाय में 33 कोटि देवता है यह उसके गुणों के आधार पर बताया गया है। इसके अलावा कई बाहर जाने से पहले गाय को रोटी देना भी शुभ माना गया है। अब बात करते हैं अपशकुन की तो किसी जानवर से कोई अपशकुन नही होता। जो बिल्ली के रास्ते काटने वाली बात है व अंग्रेजों ने बनाई है। बात ये थी की जब हमारे देश में इन दुष्ट ब्रिटिशों का शाषन था। तब चूहों से फैलने वाली बीमारी प्लेग फैल गया था। तब क्या था की आपको तो पता ही है की बिल्ली, चूहों को खाती हैं। ऐसे में उस समय अंग्रेजो को यह गलतफहमी थी की बिल्ली ने चूहों को खा लिया है अब ये बीमारी बिल्लीयो में आ गई होंगी। ऐसे में उस दिन से यह प्रथा बन गई की बिल्ली रास्ता काटे तो आगे नही जाना। इसलिए किसी भी पशु-पक्षी से कोई अपशकुन या बुरा नही होता।

Animals and Birds names in Hindi

 10 पशुओं के नाम
1. गाय
2. भैंस
3. कुत्ता
4. बिल्ली
5. शेर
6. चिता
7. लोमड़ी
8. सियार
9. तेंदुआ
10. भालू
10 पक्षियों के नाम
1. गोडावण
2. तोता
3. कौआ
4. कोयल
5. मौर
6. कबूतर
7. गरुड़
8. गीद
9. हंस
10. सफेद बगूला

 

 भारत देश के 6 धार्मिक पवित्र पशु जिनकी पूजा होती है (Holy animals of india Hindi Me)

Pavitra pashu konse hai, Holy animals of india,

#1. हाथी [Elephant]
गजराज को भगवान गणेश का रूप बताया गया है क्योकी गणेश जी का जो सिर है वो हाथी का सिर काटकर लगाया गया था। ऐसे में आज भी जब साधू-सन्यासी गांवो में हाथी को लेकर आते हैं तो सभी गांव वाले बड़ी श्रद्धा से उसको गुड़ व भोजन खिलाते हैं। कई जगहों पर हाथी की पूजा भी होती है।

#2. चूहा [Rat]
चूहा भगवान शिव के बड़े पुत्र गणेश जी की सवारी है। मतलब वाहक है। जिस प्रकार इंसानो का वाहक मोटरसाइकिल, साईकल, कार है उसी प्रकार इनका वाहन चूहा था। इसी कारण चूहे को पवित्र माना जाता है। भारत के गांवों में किराने की दुकान पर आज भी चूहे कितना भी नुकसान कर देते हैं सामान को कुरतकर नष्ट कर देते है। लेकिन फिर भी दुकानदार उनको मारते नही है।

#3. देशी भारतीय गाय [indian Cow ]
भारतीय गौमाता सबसे पवित्र जानवर है। भगवान कृष्ण गाय को चराया करते थे। गाय के महत्व के बारे में आपने ऊपर शकुन वाले उपबिन्दु में आर्टिकल पढ़ लिया होंगा। नही पढ़ा तो गूगल पर सर्च करे ‘ गाय internet gyankosh ‘

#4. सांप [Snake]
भारत में आज भी सांपो के नाम पर एक त्यौहार मनाया जाता है जिसे नागपंचमी कहाँ जाता है। इस दिन लोग नाग देवता यानी सांप को दूध पिलाया जाता है। इसके अलावा भारत के कई राज्यों में नाग देवता के मंदिर भी बने हुए हैं। जहां पर सांपो की पूजा होती है।

#5. गरुड़ [Eagle]
गरुड़ देवता यानी बाज। बाज का सम्बंध रामायण काल से है। जब रावण माता सीता को ले जा रहा था तब गरुड़ देवता ने माता सीता को बचाने के लिए भंयकर युद्ध लड़ा था। जिसमें उनके प्राण चले गए थे। इसी कारण भगववान राम ने उनको पक्षीराज की उपाधि दी थी।

#6 मोर [Peacock]
मोर के पंख का पौराणिक काल में बहुत महत्व था और वर्तमान में भी जानकार आध्यात्मिक लोग इसका फायदा उठाते है। जैसे- किसी के पैर में घाव हो जाये या गहरी चोट लग जाये तब उस जगह पर मोर के पंख को बांधा जाता है। इससे दर्द कम होता है या खत्म ही हो जाता है। वही राजस्थान के मंदिरों में धार्मिक महत्व से मोर के पंख का झाड़ू बनाया जाता है। फिर उस झाड़ू से भक्तों को Ashirvad दिया जाता है।

बेजुबान जानवरों का दुख ( Animals Cruelty in Hindi )

इस पैराग्राफ को लिखने का मेरा एकमात्र कारण यह है की मैं पशु क्रूरता पर अपने आप से ही पूछता रहता था की इन पापी कसाइयो के कारण कटने वाले बेजुबान जानवरों का क्या दोष? जब मैं किसी भी शहर में जाता हूँ तो रास्ते में चिकन शॉप दिखती है। वहाँ पर बहुत सारे मुर्गे एकसाथ भर दिये जाते हैं। वो ना धूप देख पाते हैं ना ही बाहर विचरण कर पाते हैं। फिर मैं अपने-आप से पूछता हूँ की इन्होंने पशु योनि में जन्म लिया ये इसका कारण है? तो ऐसा नहीं है बहुत सारे जानवर है भारत और अन्य देशों में जो किसी न किसी धार्मिक मान्यताओं के कारण नही काटे जाते हैं। आपको जानकार हैरानी होंगी, चीन जेसे देश में जिस प्रकार भारत में धनिया, टमाटर बिकता है उसी प्रकार वहाँ पर कुत्ते (dogs) बिकते हैं और वो भी चीनी लोग उनका कच्चा मांस खाते हैं। और अभी तो यह मांस का व्यापार गांवो में भी पहुँच गया है। इसका एकमात्र कारण है वेस्टर्न कल्चर, बॉलीवुड और टीवी मीडिया। ये इसको एक स्वास्थ्यवर्धक भोजन और ऐशो आराम का भोजन बताते हैं परंतु ऐसा नहीं है।

 जानवरों को कसाइयो से कैसे बचाये? ( How to Stop animals slaughterhouses in Hindi )

सभी Animal Lovers को मैं कहना चाहता हूं की धरती को नष्ट होने से बचाना है, असमय बारिश, बाढ़, प्राकृतिक आपदाओं को कम करना है तो हमें जानवरों को कसाईयो के हाथो से छुड़वाना ही पड़ेंगा। आज मैं आपको कुछ ऐसे टिप्स बताने जा रहा हूँ जिससे आप जीवित समय में हजारो एनीमल्स की जान बचा सकते हैं।

● अपने नजदीकी चिकन या मटन शॉप पर खुद जाये या फिर टीम के साथ जाए, उनको ये बताए की आप इस गलत काम की जगह और भी अन्य काम करके पैसा कमा सकते हैं।

● अगर आपके पास अधिक पैसा है तो इन कसाइयो (Butcher) को आप ये नॉनवेज बेचने का काम छुड़वाकर अपने यहाँ पर कोई भी छोटी-मोटी नोकरी दे सकते हो।

● देखिए कसाई को आप शांति से प्यार से यह सवाल पूछोगे की आप ये काम क्यों करते हो? तो उसका एक ही जवाब होंगा परिवार पालने के लिए मतलब पैसा कमाने के लिए ऐसे में आप उसको खुद से 6 महीने, एक साल कोई कौशल सीखाकर उसके काम को बदलवा सकते हो।

● चमड़ा (Leather) से बने सभी उत्पादों (प्रोडक्ट) का बहिष्कार करे।

● जानवरों के शरीर से निकलने वाले उत्पादों जिसमे डेयरी उत्पाद भी शामिल हैं। उनका उपयोग बंद करे। क्योकि दुधारू पशुओ को डेयरी उद्योग दूध ना देने पर या बूढ़े हो जाने पर कत्लखानों में भेज देते हैं।

● प्रोटीन आपको प्लांट बेस्ड फ़ूड में मिल जायेगा। इसलिए सिर्फ इस चक्कर में दूध ना पीए।

● जानवरों को गोद ले यानी Animal Ko Adopt करे बहुत सारे भारत में ऐसे चिड़ियाघर या जानवरों को पालने पाले फार्म मिल जायेंगे जहाँ से आप एनीमल्स को गोद ले सकते हैं और अपने अनुसार अच्छे से देखभाल कर सकते हैं।

ऐसा भोजन जो दिखता शाकाहारी है लेकिन है मांसाहारी।

konsa vegetarian food mansahari hai, manshari bhojan ki pahchan kaise kare,

सुनकर झटका लगा? आप कहेंगे, आपने ये क्या लिख दिया। बाकी अब मैं जिस खाद्य पदार्थ की सूची आपके सामने पेश कर रहा हूँ उनमें जानवरों का खून, तेल, अंडे, मांस आदि चीज़ो का प्रयोग किया जाता है।

1. बटर नान रोटी – यह वही रोटी है जो आप होटलो में बड़े चाव से खाते हैं हर किसी ने कभी न कभी जरूर खायी होंगी। इस बटर नान को सॉफ्ट यानी मुलायम बनाने के लिए अंडे (Egg) का प्रयोग किया जाता है।

2. मैगी नूडल्स – मैगी में सुअर का मांस यानी (Pok Geletin) मिलाया जाता है। अधिक जानकारी के लिए Youtube Aur Google Par Type Kare ” Maggy ingredients by Rajiv dixit ji ”

3. च्युइंगम – यानी बबलगम जो हर बच्चे ने शौक-शौक में खाई जरूर है। इसको बनाने में सुअर की चर्बी का इस्तेमाल होता है। बकायदा इसका विडियो यूट्यूब पर उपलब्ध है। इसलिए अपने बच्चो को आज ही ये Cheungum छुड़वाए। ‘Type on Google and Youtube chewing gum ingredients in hindi’

4. मैकडोनाल्ड, पिज्जा हट का सेन्डविच और पिज्जा – बिल्कुल ये पूरी तरह नॉन वेजेटेरियन होते हैं। हर साल सिर्फ मैकडोनाल्ड करोड़ो मुर्गे-मुर्गियों की बलि चढ़ाता है। ऐसे में आप भारत के मैकडोनाल्ड की दुकानों के बाहर जाकर विरोध प्रदर्शन कर सकते हैं। विदेशो में भी इसका जबरदस्त विरोध होता है।

5. साबूदाना – उपवास के समय नास्ते में बनने वाला। उसका भी उपयोग ना करे।

6. शक्कर – हाँ वो ही बड़े दाने वाली चीनी जो आप हर रोज मीठे के रूप में अपने चाय, हलवे, खीर इत्यादी मिष्ठानों में डालते हो। इस चीनी के ऊपर जो सफेद पाउडर होता है वो जानवरों की हड्डियों का पाउडर होता है। सफेद जहरीली चीनी के विकल्प के तौर शुद्ध काले रंग के गुड़ का प्रयोग करे या देशी खांड का उपयोग करे।

हर पशु-पक्षी प्रेमी इस पोस्ट को उन सभी लोगो के पास पहुँचाये जो इन बेजुबान जानवरों की कद्र नही करते। वेसे आप किस राज्य से है? अपने पशु-प्रेम के बारे में 50 से 100 शब्दों में नीचे ब्लॉग सेक्शन में कमेंट करके बताये।

इन्हें भी पढ़े [ Related Articles ]

अरविंद एनिमल एक्टिविस्ट का जीवन परिचय ( जानवरों से प्यार करने वाले लोग जरूर पढे )

भारत के बारे में 150 रोचक तथ्य

Leave a Comment