देखिए कैसे अंग्रेजी दवाई [एलोपैथी मेडिसिन] लोगो को मौत के घाट उतारती है।

देखिए कैसे अंग्रेजी दवाई [एलोपैथी मेडिसिन] लोगो को मौत के घाट उतारती है। allopathy in Hindi

एलोपैथी मेडिसिन का हिंदी में मतलब होता है अंग्रेजी दवाई। इस हिसंक उपचार ने भारत ही नही बल्की पूरी दुनिया में करोड़ो लोगो की जान ली है। मैंने अपनी आँखों के सामने अपने परिवार के कई सदस्यों को अपने आंखों के सामने खोया है। इसमें बेचारे इन डॉक्टरों का कोई दोष नही होता क्योकी इनको जो पाठ्यक्रम में सिखाया जाता है वैसे ही चिकित्सा करते हैं। दोष तो उन ड्रग माफिया और मेडिकल फार्मा कंपनियों का है जो इनका सिलेबस तैयार करते हैं और उसी पाठ्यक्रम के अनुसार हर इंसान को जीवन भर इस चिकित्सा पद्धति का गुलाम बनाया जाता है। ध्यान रहे यहाँ किस तरह ‘अंग्रेजी दवाई’ आदमी को मारती है इस पर अपने परिवार का व्यक्तिगत अनुभव साझा कर रहा हूँ। इसके अलावा मैंने इस विषय पर काफी अनुसंधान (रिसर्च) भी किया है। इसलिए पूरी पोस्ट को पढे ताकी आपके लाखो रूपये और कीमती समय बच सके। मैं यह शर्त लगा सकता हूँ इस पोस्ट की कीमत 1,00000 /- रूपये से अधिक है। इसमें मेडिकल जगत के कुछ षड्यंत्र और साजिशो का भी खुलासा किया गया है।

 

स्टेप 1 हिंसक उपचार अंग्रेजी चिकित्सा पद्धति

जेसे ही किसी आम आदमी, मध्यम वर्गीय या अमीर शख्स को कोई सामान्य सिर दर्द, खांसी या कुछ भी लक्षण दिखाई देते हैं। या फिर आप बोल सकते हैं की उसको कोई बीमारी हो गईं और वो अंग्रेजी डॉक्टर को दिखाने गया की ये मेरी तकलीफ है इसका इलाज बताये। अब यही से आपके मौत का सफर शुरू होता है। महान होम्योपैथी डॉक्टर और इंटरनेशनल पीपल कोर्ट के जज लिओ रेबेलो सही कहा है– अंग्रेजी अस्पताल मतलब मौत का कुआँ। मुझे पता ये आर्टिकल बहुत ज्यादा पढे-लिखे लोगो को बिल्कुल समझ नही आने वाला क्योकी उनको लार्ड मैकाले के स्कूलों में सबकुछ अलग सिखाया गया है। लेकिन जिनको अपना स्वास्थ्य अच्छा करना हैं वे लोग इस पोस्ट को पूरा पढ़ेंगे।

स्टेप 2 हिंसक उपचार अंग्रेजी चिकित्सा पद्धति

अभी जब डॉक्टर साहब उन्हें डाइग्नोस्टिक टेस्ट करवाते हैं रिपोर्ट आती है की ये आपको xyz, फला-फलाना बीमारी है। अभी आप जीवनभर उस बीमारी को और ज्यादा ना बढ़ने देने के चक्कर में सुबह- शाम गोलियां लेना शुरू कर देते हैं। क्योकी उस डॉक्टर ने आपके दिमाग के अंदर ये डर (भय) डाल दिया है की आप अगर ये टेबलेट (मेडिसिन) नही लेंगे तो आपकी जान को खतरा हो सकता है। जबकी होता ठीक इसके विपरीत है। अब तीसरे चरण में इस मौत के खेल को खत्म करते हैं।

स्टेप 3 हिंसक उपचार अंग्रेजी चिकित्सा पद्धति

जब आप ये मेडिसिन खाना शुरू करते हैं या फिर इनका जो भी ऑपरेशन, मशीनों के द्वारा शरीर की जांच करना आदी करवाने से आपकी बॉडी दिन- ब-दिन कमजोर होता जाता है। आपको ये जानकर हैरानी होंगी की जिस बीमरी को ठीक करने के लिए आप जो दवा खा रहे हैं, वो इसके साथ ही साथ अन्य नाना प्रकार की बीमरियों को भी जन्म देती है। उदाहरण के लिए आप डायबिटीज या बीपी के मरीज हो, तो वो मेडिसिन आपकी किडनी को खराब कर देती है। फिर आप बीपी शूगर के साथ किडनी की गोलियां भी खाने लग जाते हैं और इस तरह से आपकी सांस एक दिन इन जहरीली दवाइयों के बोझ के कारण रूक जाती है। ये प्रक्रिया हर बीमारी पर लागू होती है जो व्यक्ति एलोपैथिक से अपना इलाज करवा रहा है। मैंने अपनी सगी दादी को इसी तरह आँखों के सामने मरते देखा। मैंने उनको विकल्प बताये, बहुत सारी अच्छी बाते बताई, वो तो मान गई लेकिन उनका बेटा और पति इस विचारधारा को स्वीकार नहीं किया क्योंकी उनको ऐसा लग रहा था की हमारे पास तो बहुत सारे पैसे है हम तो उनका इलाज बड़े नामी हॉस्पिटल में करवा रहे हैं। जबकी हकीकत में जितना महंगा हॉस्पिटल, उतनी जल्दी मौत। यही परमसत्य है। चिंता ना करे आप ऐसी जानकारी पहली बार ही पढ़ रहे हैं तो कुछ महान लोगो के नाम भी आप इस पोस्ट में पढ़ेंगे जिनको इस विषय पर सम्पूर्ण जानकारी हैं।

 

अंग्रेजी दवाओ के दुष्प्रभाव Allopathic Medicine side effects in Hindi

ये आपको जीवनभर रोगी बने रहने का वरदान देती है। मतलब जो व्यक्ति एकबार इसका सेवन शुरू कर देता है वो फिर जीवनभर इसके झाल में फँस जाता है। इसमें बच्चे, बूढें महिला-पुरूष सभी शामिल हैं। मैं आपको खुली चुनौती देता हूँ अगर आप कोई एक ऐसी एलोपेथी दवाई बता दे जो किसी भी बीमारी को ठीक करती हो। अंग्रेजी दवाई रोग को दबाती है ना की खत्म करती है। इसके अलावा ये आपके दिमाग का वो सिग्नल भी काट देती है जिससे आपको पता चलता है की मुझे ये बीमारी है। जब भी आप कोई भी एलोपेथी मेडिसिन लेते हैं तो कुछ समय के बाद आपका दर्द खत्म हो जाता है ऐसे में आप को लगता है की मैं ठीक हो गया जबकी ऐसा नहीं है। उस दवाई निर्माता कंपनी यानी फार्मा ड्रग माफिया ने आपके अंदर एक और रोग पैदा कर दिया है। कुछ दवाईया ऐसी है जो बाजार में बहुत लोकप्रिय है लेकिन वे सबसे ज्यादा खतरनाक है उदाहरण के लिए ह्रदय रोगीयो को ऐस्प्रिन नामक गोली दी जाती है। इसके अलावा बहुत सारी दवाइयो की लंबी-चौड़ी सूची है। जिनका नाम लेना मतलब…. आप समझ गए होंगे? आपने कई बार जेनरिक दवाइयों के बारे में सुना होंगा आपको पता है ये क्या होती है? तो सुनिए ये एक्सलिरेमेंटल ड्रग्स होती है। देशी भाषा में बोलूं तो एकदम रद्दी घटिया किस्म की गोलियां। जो दुनिया के गरीब देशों के लोगो को सस्ती दवाई के नाम पर बैची जाती है। इसके जरिए ये फार्मा टेस्टिंग करती हैं की इससे कितनी बीमारियां होती है। ये भी एक बहुत बड़ा टॉपिक है इसके लिए आप कैप्टन अजीत वड़कियाल जी की पोस्ट पढे  ‘Generics Medicine by ajit vadakayil’ पहले ऊपर की लाल लिंक क्लिक करके उनका हिंदी जीवन परिचय पढ़ ले।

मेडिकल माफिया किसे कहते हैं? Medical Mafia in Hindi

मेडिकल माफिया (इंडस्ट्री) बोलो, ड्रग्स माफिया बोलो या फार्मा माफिया बोलो बात एक ही है। ये एक ऐसा समूह होता है जो सम्पूर्ण अंग्रेजी चिकित्सा को नियंत्रित करते हैं। यही नही आपकी जितनी भी पसंदीदा राजनैतिक दल (पार्टियों) को चुनाव लड़ने का चंदा यही से मिलता है। तभी तो बहुत सारे गलत फैसले इन राजनेताओं को इनके दवाब में आकर लेने पड़ते हैं। मुद्दे पर आते हैं मतलब असली जो मेडिकल साइंस हैं उसमें तो फिर भी मरीज की परवाह की जाती है लेकिन इन फार्मा कंपनियों का एकमात्र मकसद व्यापार (बिजनेस) करना होता है। और इसके लिए भले आपकी उन दवाइयों के कारण मौत हो जाये इनको कोई फर्क नही पड़ता।

Quote 1

इस दुनिया की सबसे अमीर कंपनियां गूगल, माइक्रोसॉफ्ट और एप्पल नही बल्की ये दुष्ट फार्मा इंडस्ट्री हैं।                       ‘कप्तान अजीत वाडकायिल’ 

Quote 2

मेडीकल, डॉक्टर, अस्पताल और दवाई इन चार से रिश्ता  तोड़ दो आधी बीमारियां अपने आप ठीक हो जायेगी।.                                                         ‘ राजीव दीक्षित जी  ‘

यह भी पढे –   राजीव दीक्षित जी का जीवन परिचय 

Quote 3

ध्यान रखें उस व्यक्ति की उम्र हमेशा कम होती हैं जिसकी दोस्ती बहुत बड़े डॉक्टर से होती है। इसका मतलब यह है की स्वास्थ्य का ज्यादा पैसो से कोई लेना देना नही है बल्की सही लोगो से हेल्थ एजुकेशन लेना है।

‘डॉ बिस्वरूप रॉय चौधरी’

यह भी पढे –  डॉ बिस्वरूप रॉय चौधरी का जीवन परिचय

अंग्रेजी दवाएं बनती कैसे है? (जानिए मेरे pharmacist दोस्त ने क्या जवाब दिया) 

हाँ ये बात सत्य है की 10 से 20% पेड़-पौधों का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन बाकी 80% शेष में खतरनाक कैमिकल मिलाए जाते हैं। मेरा एक प्रिय मित्र है जो की पेशे से एक फार्मासिस्ट (pharmacist) हैं। हम दोनों एक शादी समारोह के भोज पर गए हुए थे। तब खाना खाते-खाते मैंने पूछा – ‘ यार कमलेश सच-सच बताना की तू अंग्रेजी दवाईयां लेता है या नही?
कमलेश का जवाब – ” मैं एलोपैथी दवाईया बनाता हूँ और लोगो को देता हूँ (बेचता हूँ) मैं खुद कभी नही खाता। जेसे ही इसने ये बोला ऐसे में मेरे चेहरे पर एक हल्की मुस्कान आयी की जो मैंने सही ज्ञान लिया था वो वास्तव में सच है।

 

अंग्रेजी दवाईयों का कोई विकल्प हैं? Allopathy Medicine Alternative in Hindi

इसका सबसे आसान तरीका है नीचे दी गई अन्य चिकित्सा पद्धतिया जिसमें योग, ध्यान, प्राकृतिक चिकित्सा (नेचुरोपैथी), होम्योपैथी तथा आयुर्वेद शामिल हैं। इन सबके बारे में एक ही आर्टिकल में जानने के लिए नीचे दी गई आर्टिकल लिंक पर क्लिक करें जिसमें इन सभी चिकित्सा पद्धति के बारे में संक्षेप में बताया गया है की ये कैसे काम करती है।


यह भी पढे – 

Health tips in Hindi – cure disease through Ayurveda, homeopathy, naturopathy, plant-based food and yoga

 

Allopathy Medicine (angreji dawai) exposed by Rajiv Dixit ji

 

 जानिए modern allopathic system का सत्य !

 

आप सब से हाथ जोड़कर विनती है इस पोस्ट को हर उस भारतीय तक पहुँचाये जो इस हिंसक चिकित्सा पद्धति से इलाज करवा रहा है या करवा चुका है। आपका क्या अनुभव रहा है एलोपैथी को लेकर नीचे ब्लॉग कॉमेंट बॉक्स में जरूर बताये।



इन्हें भी पढ़ें [ Related Articles ]

बीमार व्यक्ति की घर पर देखभाल कैसे करें? 

शरीर कमजोर होने का कारण बनती है ये गलत अनहेल्दी फूड की आदतें

एल्यूमीनियम बर्तन के नुकसान

स्वस्थ और रोगमुक्त जीवन कैसे जिएं

Dr BRC डीआईपी डाइट क्या है और इसे कैसे ले?

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

आपने ऐड ब्लॉकर लगाया हुआ है!!!

हमारी वेबसाइट का पूरा खर्चा गूगल विज्ञापन से चलता है। कृपया Ad Blocker को डिसेबल करके हमारा सपोर्ट करें। (एक पोस्ट लिखने में समय, पैसा और ऊर्जा तीनो लगते हैं)

Powered By
CHP Adblock Detector Plugin | Codehelppro