Chhattisgarh me kitne jile [District] hai? छत्तीसगढ़ के सभी जिलों के नाम

Table of Contents

Chhattisgarh me kitne jile [District] hai? छत्तीसगढ़ के सभी जिलों के नाम

छत्तीसगढ़ राज्य में वर्तमान सन् 2022 में  कुल 32  जिले  हैं।  हाल ही में नवीनतम चार और नये डिस्ट्रिक्ट को जोड़ा गया है जिनकी जानकारी इसी पोस्ट में सबसे अंत में दी गई है। आज आप छत्तीसगढ़ के सभी जिलो के नाम वह उनकी क्या विशेषता है, उसके बारे में  सक्षिप्त में विवरण पढ़ेंगे।

1. बालोद [ Balod ]

बालोद जिला में वन सम्पदा, जल और खनिज संसाधन हैं। खनिज संपदा अपने राजस्व का लगभग 78% योगदान देती है। धान, चना, चीनी और गेहूं के उत्पादन के लिए जाना जाने वाला बालोद कृषि उद्योगों में बहुत आगे हैं।

 

2. बलौदा बाज़ार [ Baloda Bazar ]

बलौदाबाज़ार जिले को भाटापारा भी कहते हैं। यहाँ पर बैल और भैंस का खरीदना और बेचने का व्यापार ज्यादा होता है, इसके कारण इस जिले का नाम बैलबोदा पड़ा जो अभी बलौदा हो गया। बलौदा बाज़ार जिला अपनी अपनी वन – संपदा, चना-पत्थर खनिज, उच्च गुणवत्ता के चावल के कारण समृद्ध है। बलौदा बाज़ार जिले के पर्यटन स्थलो कि सूची;-
● कसडोल में बारनवापारा अभ्यारण्य,

● तुरतुरिया (बालिमकी आश्रम),

● गिरौधपुरी में सतनाम पंथ के प्रर्वतक गुरू घासीदास की जन्म भूमि

● जैतखम्भ ( विशालकाय )

● फ्रीडम फाइटर वीर नारायण सिंह की जन्म भूमि।

3. बस्तर [ Bastar ]

बस्तर जिला अपनी जनजातीय समुदाय, प्राकृतिक सम्पदा, सौन्दर्य, मनमोहक वातावरण के लिए जाना जाता है। बस्तर जिला घने जंगलों, ऊँची – पहाड़ियों, झरनों, गुफाओ व वन्य जीवो से भरा हुआ है। बस्तर जिले के लोग गजब की कलाकृति, उदार संस्कृति के लिए भी प्रसिद्ध हैं। यहाँ के आदिवासी लोग बहुत सारे ऐसे पुराने काम करते हैं, जिससे इस जिले की अर्थव्यवस्था बनती है।

बस्तर में घूमने फिरने की जगहों का नाम ;-

● चित्रकोट जलप्रपात -भारत का नियाग्रा
● तीरथगढ झरना-कांगेर घाटी का जादूगर
● तामड़ा घूमर : कुदरत का अनुपम उपहार
● कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान
● कुटुम्बसर गुफा-अंधी मछलियों की जगह

4. बेमेतरा [ Bemetara ]

बेमेतरा जिला का गठन 1 जनवरी, 2012 को किया गया। यहाँ के अस्सी प्रतिशत लोग खेती बाड़ी का काम करते हैं। वही दस प्रतिशत सरकारी नोकरी वह दस प्रतिशत व्यापार करते हैं। वही बेमेतरा जिले में राष्ट्रीय त्यौहारो के साथ क्षेत्रीय त्योहार भी बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।

5. बीजापुर [ Bijapur ]

बीजापुर जिला अपने जंगलों वह जंगली जानवरों के कारण हमेशा चर्चा में आता है, यहाँ पर बाघ, तेंदुए वह अन्य नाना प्रकार के जीव-जंतु, पशु – पक्षियों की भरमार है। पहले इस जिले का नाम बीरजापुर था।

6. बलरामपुर [ Balrampur ]

बलरामपुर जिला आदिवासी लोगो की संस्कृति, उत्सव व कृषि के कारण जाना जाता है। इस जिले का रामानुजगंज कस्बा पर्यटन की दृष्टि से बहुत महत्व रखता हैं। जिसमें दीपडीह (प्राचीन मूर्तिकार) रकसगंडा, बाबा बच्छराज कुंवर और पवई झरना का मनमोहक दृश्य कोई नहीं भूला सकता। यहाँ की सत्तर प्रतिशत आबादी भील/आदिवासी हैं।

7. बिलासपुर [ Bilaspur ]

बिलासपुर शहर लगभग चार सौ सालों पुराना है और “बिलासपुर” का नाम “बिलासा” नाम की महिला के नाम पर रखा गया है। अचनकमार वन्यजीव अभयारण्य में सेकड़ो वन्यजीव आप दे सकते हैं। इसके साथ ही रेलवे, हवाई जहाज और रोड मार्ग सेवा की भी पूरी व्यवस्था हैं।

8. दंतेवाड़ा [ Dantewada ]

दंतेवाड़ा जिला भारत का वह डिस्ट्रिक्ट हैं, जिसने अपनी सभी परम्पराओं, सभ्यता को आजतक जीवित रखा, जो काम इनके पुर्वज करते थे, वे भी उनके पदचिन्हों पर चल रहे हैं। पौराणिक और ऐतिहासिक महत्व के लिए मंदिर, स्थापत्य कला शैली आप देख सकते हैं। यूरेनियम, ग्रेनाइट, ग्रेफाइट, चूना पत्थर तथा संगमरमर के कीमती खनिज यहाँ पर भरपूर मात्रा में है।

दंतेवाड़ा में घूमने की जगहो का नाम इस प्रकार है;-
● विश्व प्रसिद्ध मुरिया नृत्य

● बत्तीसा मंदिर – गणेश जी की प्रतिमा

● माँ दंतेश्वरी मंदिर ।

●बारसुर – एक प्राचीन गौरवशाली जगह।

● ढोलकाल गणेश तथा हीरम राज मंदिर

● अक्षुण्ण आदिम सभ्यता इंद्रावती नदी

9. धमतरी [ Dhamtari ]

धमतरी जिला अपने पर्यटन के कारण प्रचलित हैं।
आकर्षण का केंद्र;-
●अंगारमोती मंदिर और राम टेकरी ।

● सोंढूर बांध व रुद्री बैराज ।

● मचन झोपड़ी गैंग्रेल

● बोटिंग पॉइंट नाव में बैठने की जगह गैंग्रेल बांध में।

● श्रृंगी ऋषि, सिहावा।

● नरहर झरना

● जाबड़ा- पर्यावरण पर्यटन स्थल
माँ विंध्यवासिनी मंदिर धमतरी,

● कणेश्वर मंदिर, सिहावा धमतरी

 

यह भी पढे –  पर्यटन व पर्यटक क्या होता है इसका मतलब क्या होता है?

 

10. दुर्ग [ Durg ]

दुर्ग जिले को छतीसगढ़ का इंदुस्ट्रीयल शहर भी कहते है। यह छतीसगढ़ का दूसरा सबसे बड़ा जिला है। यहाँ पर खनिज संपदा भरपूर है। कुछ विचरण सैर करने की जगह;-

● चिड़ियाघर मैत्री बार

● भिलाई इस्पात संयंत्र

● श्री उवग्गरहरम पाश्व जैन तीर्थ (Uwasaggaharam parshwa tirth nagpura )

 

11. गरियाबंद [ Gariyaband ]

गरियाबंद जिला 50 प्रतिशत वनों से घिरा हुआ है शेष भूमि पर कृषि होती है। राजिम में बना राजिवलोचन विष्णु मंदिर एक प्रसिद्ध हिन्दू तीर्थ स्थल है। राजिम कुंभ मेला बहुत प्रसिद्ध हैं। इसके अलावा जटमाई मंदिर, घटारानी मंदिर, भूतेश्वर नाथ, सिक्सर बांध, उदंती सीतानदी टाइगर रिजर्व आदि पर्यटन स्थल है।

12. जांजगीर-चांपा [Janjgir-Champa]

जांजगीर-चांपा जिला को किसानों का नगर भी कहा जाता हैं। यह छतीसगढ़ का प्रमुख अनाज उगाने वाला जिला भी है। यह जिला कोशा काशा कंचन की नगरी नाम से भी जाना जाता हैं। वही रामजी को झूठे बैर (फल) खिलाने वाली शबरी माता का आश्रम भी यही स्थित हैं। पर्यटन स्थलों की सूची ;-
● मगरमच्छ सरंक्षण पार्क

● दल्हा पहाड़

● विष्णु मंदिर एक सांस्कृतिक विरासत

13. जशपुर [ Jashpur ]

जशपुर जिला अपने समृद्ध इतिहास के कारण जाना जाता है। देखने लायक जगहें रानीदाह जलप्रपात, कैलाश गुफा और कुनकरी चर्च है, जो भारत का दूसरा सबसे बड़ा चर्च हैं।

14. कबीरधाम [ Kabirdham ]

कबीरधाम छतीसगढ़ का एक जिला हैं। भोरमदेव मंदिर को ‘छत्तीसगढ़ का खजुराहों’ कहते हैं। मैकल हिल्स की पहाड़ियां भी बहुत खूबसूरत है।

15. कांकेर [ Kanker ]

कांकेर जिला को उत्तर बस्तर कांकेर भी कहते हैं। कांकेर का इतिहास पाषाण युग में शुरू होता है। भारत के पौराणिक संस्कृत महाकाव्यों, रामायण और महाभारत के अनुसार, उस समय कांदेर नामक क्षेत्र में दंडकारण्य नामक एक घना वन क्षेत्र था। इतिहासकारो के अनुसार कांकेर भिक्षुओं और संतों की भूमि थी। कई ऋषियों – मुनियों जैसे कांक, लोमेश, श्रृंगी, अंगिरा आदि का कांकेर कर्मभूमि और जन्मभूमि रहा है।

16. कोंडागांव [Kondagaon]

चौबीस जनवरी 2012 को इस जिले का गठन हुआ। केशकल घाट, शिल्प ग्राम, शिव मंदिर कोपाबेड़ा, भोंगलपाल में बौद्ध धर्म के ऐतिहासिक मंदिर वह टीले बने हुए हैं। जटायु शिला, शैल पिक्चर। हरे-भरे वन क्षेत्र से आच्छादित कोंडागांव को प्राकृतिक सुंदरता और महान पुराने जिला बने रहने का आशीर्वाद प्राप्त है।  कोंडागांव जिले को‘ झरनों जलप्रपात ‘ वाला जिला भी कहा जाता हैं,

इसका उदाहरण आप देख सकते हैं;- ,

१. कटुलकसा झरना, होनहेड
२. बिजकुदुम झरना, उपर-मुरवेंड
३. उमरदाह झरना
४. लिंग-दरहा झरना
५. अमदरहा -1 झरना
६. अमदरहा -2 झरना
७. हँखी-कुदुम झरना
८. घमौर झरना
९. कुदरवाही जलप्रपात
१०. अपरपेड़ी झरना
११. मिरदे झरना
१२. मुट्टे-खड़का झरना
१३. चेरबेड़ा झरना

17. कोरबा [ Korba ]

कोरबा जिला अपनी आदिवासी जनजाति वह प्राकृतिक सौंदर्य के कारण जाना जाता है।सतरंग महादेव पहाड़ और देवपहाड़ी पिकनिक स्पॉट देखने लायक जगह है।

18. कोरिया [Korea /Koriya]

चोंकिये मत यह कोई देश नही हैं, यह छतीसगढ़ का एक जिला हैं। कोरिया पैलेस, गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान, पोंडी जगन्नाथ मंदिर, रामदहा टेम्पल, गुरुघाट वह अमृतधारा झरना यहाँ के मुख्य पर्यटन स्थल है।

19. महासमुन्द [ Mahasamund ]

महासमुन्द जिला अपनी सांस्कृतिक हिस्ट्री के लिए प्रसिद्ध है। यह क्षेत्र ‘सोमवंशीय सम्राट’ द्वारा शासित ‘दक्षिण कोशल’ की राजधानी थी, यहाँ बड़ी संख्या में मंदिर हैं,जो अपने प्रकति और सौंदर्य के कारण हमेशा यहाँ आने वाले टूटिस्ट को आकर्षित करते हैं। यहाँ के मेले व त्यौहार लोगों के जीवन का हिस्सा बन गए हैं। सुरंग टीला व लक्ष्मण मंदिर सिरपुर दर्शनीय स्थल है।

20. मुंगेली [ Mungeli ]

मुंगेली जिला अपने पर्यटन और ऐतिहासिक महत्व को दर्शाता हैं। अतीत में ऋषियों ने इसे श्वेत गंगा का नाम दिया था। यहाँ के 97 प्रतिशत लोग छतीसगढी भाषा बोलते हैं।

21. नारायणपुर [ Narayanpur ]

ग्यारह मई, 2007 को नारायणपुर जिले का गठन किया गया। हंदवाड़ा झरना व रामकृष्ण मिशन आश्रम पर्यटकों का मन जीत लेती हैं।

22. रायगढ़ [ Raigarh ]

रायगढ़ जिला छतीसगढ़ में लगभग लगभग भारत की सभी बड़ी कम्युनिटी निवास करती हैं, जिसमे मारवाड़ी, पंजाबी, उड़िया, बंगाली आदि शामिल हैं छतीसगढ़ राज्य का सबसे लंबा ब्रिज की लंबाई 1830 मीटर रायगढ़ में ही बना हुआ है। केलो बांध और ढोकरा आर्ट शिल्प कला एक बेहतर नमूना हैं।

23. रायपुर [ Raipur ]

रायपुर जिला जनसंख्या की दृष्टि से छतीसगढ़ राज्य का सबसे बड़ा जिला हैं। मुख्य भाषा छतीसगढिया ही हे। स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट, शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम आकर्षक का केंद्र हैं।

24. राजनांदगाँव [ Rajnandgaon ]

राजनांदगाँव जिला का लिंगानुपात बहुत बढ़िया हैं यहाँ पर प्रति 1000 पुरुषों पर 1017 महिलाएँ है।
● एनर्जी पार्क और चौपाटी

● अंतरराष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम

● रामपुर बांध और रानी सागर

● बरफ़ानी आश्रम

25. सुकमा [ Sukma ]

सुकमा जिला भारत के सबसे कम विकसित जिलों में से एक है। इसका कारण यहाँ पर नक्सलवादी गतिविधियां ज़्यादा होती हैं। तुंगल बांध, दुदमा पर्यटक स्थल, दोरनापाल-कालीमेला पूल और दोरनापाल ब्रिज प्रसिद्ध हैं।

26. सूरजपुर [ Surajpur ]

पंद्रह अगस्त, 2011 को सूरजपुर जिला बना। यह जिला अपने बाजार के गुणवत्तापूर्ण उत्पादो और छत्तीसगढ़ के अन्य प्रमुख पर्यटन स्थलों के लिए जाना जाता हैं। जिसमें प्रमुखत:
● तामोर पिंगला वन्य अभयारण्य

● सूरजपुर जिले का देवगढ़

● सूरजपुर जिले में रामगढ़ (सीता भेंगरा गुफाएं, सीता कुंड, कालिदास मेघदूतम)

● कुदरगढ़ (बागेश्वरी देवी मंदिर)

● भैयाथान (पाताल भैरव मंदिर)

● प्रेम नगर (महेशरी मंदिर)

● श्याम बाबा मंदिर और शिव मंदिर बसदेई।

27. सरगुजा [ Surguja ]

क्षेत्रफल की दृष्टि से सरगुजा जिला राज्य में पहले नम्बर पर आता है। अब देखते हैं, इसके पर्यटन स्थल( घूमने फिरने की जगहों का नाम )।

● मनिपत कार्निवल इवेंट

● टाइगर प्वाइंट झरना और सीता बेंगरा।

● चेन्द्रा ग्राम , रकसगण्डा जल ।

● भेडिया पत्थर, बेनगंगा जल व सेदम जल प्रपात

● मैनपाट , काराबेल, ठिनठिनी पत्थर।

● अम्बिकापुर बांक जल कुंड।

28. गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही [ Gaurela-Pendra-Marwahi]

गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही जिले का गठन फरवरी 2020 को हुआ। मुख्य भाषा हिंदी वह छतीसगढ़िया। यह छतीसगढ़ का 28 वां नवनिर्वाचित जिला हैं।

 

छतीसगढ़ के चार नये जिलो के नाम [Cg Chattisgarh 4 New District Names in Hindi]

15 अगस्त 2021 को आधिकारिक रूप से सी.जी सरकार ने ४ चार नये जिलो की घोषणा की, जिनके नाम हिंदी व अंग्रेजी भाषा में निम्नलिखित है।

1. शक्ती जिला Shakti District

2. मोहला-मानपुर जिला Mohla-Manpur District

3. सारंगढ़- बिलाईगढ़  जिला Sarangarh-Bilaigarh
District

4. मनेन्द्रगढ़  जिला Manendragarh District

छतीसगढ़ क्यों प्रसिद्ध है?

छतीसगढ़ राज्य अपनी प्राकृतिक सुंदरता, बड़े झरने, मंदिरो, गुफाओ और आदिवासी समुदाय की संस्कृति के कारण प्रसिद्ध है।

मुझे उम्मीद हैं, आपको छत्तीसगढ़ राज्य के बारे में वह उसके सभी जिलों के बारे में दी गईं जानकारी काम आयेगी।। सभी छत्तीसगढ़वासियों व भारत के लोगो के साथ यह पोस्ट साझा जरूर करें।

क्योंकी एक प्रसिद्ध कोट्स हैं, जो मैंने शांतिकुज आश्रम  में आये मेरे दोस्त के मुंह से सुना.

‘छत्तीसगढ़िया सबसे बढ़िया’ (chhatteesagadhiya sabse badhiya )

इन्हें भी पढ़ें [ Related Articles ]

भारत के सभी राज्य और केंद्रशासित प्रदेशो के नाम हिंदी व अंग्रेजी भाषा में।

दादर एंव नागर हवेली के सभी जिलों के नाम

चंडीगढ़ के सभी जिलों के नाम

अंडमान एंव निकोबार के सभी जिलों के नाम

तेलगांना के सभी जिलों के नाम

पश्चिम बंगाल के सभी जिलों के नाम

उत्तर प्रदेश के सभी जिलों के नाम

 उत्तराखंड के सभी जिलों के नाम

त्रिपुरा के सभी जिलों के नाम

तमिलनाडु के सभी जिलों के नाम

सिक्किम के सभी जिलों के नाम

पंजाब के सभी जिलों के नाम

उड़ीसा के सभी जिलों के नाम

नागालैंड के सभी जिलों के नाम

मिजोरम के सभी जिलों के नाम

मेघालय के सभी जिलों के नाम

मणिपुर के सभी जिलों के नाम

महाराष्ट्र के सभी जिलों के नाम

मध्यप्रदेश राज्य के सभी जिलों के नाम

झारखंड के सभी जिलों के नाम

जम्मू एंव कश्मीर के सभी जिलों के नाम

हिमाचल प्रदेश के सभी जिलों के नाम

गुजरात के सभी जिलों के नाम

छत्तीसगढ़ के सभी जिलों के नाम

राजस्थान के सभी जिलों के नाम

अरुणाचल प्रदेश  के सभी जिलों के नाम

आंध्र प्रदेश के सभी जिलों के नाम

 बिहार के सभी जिलों के नाम

गोआ गोवा में कितने जिले है

असम के सभी जिलों के नाम

 कर्नाटक के सभी जिलों के नाम

केरल के सभी जिलों के नाम

हरियाणा के सभी जिलों के नाम

Leave a Comment