योग निद्रा कैसे करे? योग निंद्रा करने के 25 फायदे

योग निद्रा कैसे करे? योग निंद्रा करने के 25 फायदे

आज हम स्वास्थ्य के विषय में एक ऐसी विद्या सीखेंगे। जिससे आपको बहुत ज्यादा हैल्थ बेनेफिट्स भी मिलेंगे वह आपके पास समय ज्यादा आ जायेगा। आज मैं आपको योग निंद्रा के बारे में सम्पूर्ण ज्ञान दूंगा। आप मेरे से योग निद्रा क्यों सीखेंगे? इसलिए क्योकी इसका प्रशिक्षण मैंने कोई इंटरनेट पर वीडियो देखकर या आर्टिकल पढ़कर नही अपितु भारत के सबसे बड़े आध्यात्मिक संगठन अखिल विश्व गायत्री परिवार
शान्तिकुन्ज  हरिद्वार जाकर प्राप्त किया हैं। मैं, यह गांरन्टी दे सकता हूँ। मैं जो योग निद्रा आपको बता रहा हूँ। वो बेस्ट गाइड हैं। आपको इंटरनेट पर 30 से 1 घण्टे तक की योगा निंद्रा  वीडियोज मिल जायेंगे। जबकी जिसने सही योग निद्रा का अभ्यास किया हैं। उसको ही ये बात पता हैं, योगनिद्रा के दूसरे चरण में ही व्यक्ति को गहरी नींद आ जाती हैं। तो फिर वह व्यक्ति एक घण्टा उस योगा निंद्रा meditation को कैसे सुनेगा? इसलिए इस पोस्ट को पूरी पढे, मुझे उम्मीद हैं, इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको कोई दूसरी योगा निंद्रा post पढ़ने की जरूरत नही पड़ेंगी। तो चलिए जानते हैं। योग निद्रा कैसे करे? योग निंद्रा करने के 25 फायदे हिंदी भाषा में।

yoga yog nidra kaise kare, Yog Nindra ke fayde,
                   Sleep Meditation

योग निद्रा कैसे किया जाता है?

योग निंद्रा का अभ्यास सीखने से पहले हम थोड़ा बहुत योग निंद्रा के बारे में जान लेते हैं। ताकी आपको यह पता रहे, यह किस चिकित्सा का हिस्सा हैं। और इसके आविष्कारक कौन हैं।
योग निद्राको यौगिक स्लीप और स्लीप मेडिटेशन भी कहा जाता है। और इसका अविष्कार हमारे ऋषि-मुनियों ने किया हैं। योग निंद्रा आयुर्वेद का भाग हैं। जिस प्रकार प्राणायाम, आसन हैं। अब जानते हैं, स्टेप बाय स्टेप योग निद्रा कैसे करे;-

1. [पहला चरण] –

सबसे पहले आप जमीन पर एक चटाई ( बिछाने की दरी ) लगा दीजिए। अब आप शवासन में सो जाइये, जिस प्रकार आपने उपर की पहली इमेज में देखा होंगा।  शवासन का मतलब (मृत्यु प्राप्त व्यक्ति) की तरह मुद्रा बनाकर सोना। जिसमे पीठ (कमर) नीचे, छाती उपर, दोनो हथेलियां आकाश की तरफ खुली हुई, हाथ की बंधी हुई मुठी  को खोल दे।

2. [दूसरा चरण] –

अब आप पीठ (कमर) के बल लेट गए हैं। उसके बाद अपने हाथ से हाथ और पैर से पैर को बांध लें। मतलब जकड़ दे (पूरी तरह कसकर जकड़ दे) जिस प्रकार हम जोर से आँख को बंद करते हैं। उसी प्रकार यह काम सोते – सोते ही करें।
● अब एक गहरी लंबी सांस लेकर एक  झटका देकर सांस छोड़ दे। (यहाँ पर जो कुछ भी बताया जा रहा हैं, अब क्रियाएं सोते-सोते ही करनी है, शवासन में) यह सांस छोड़ने की क्रिया तीन बार करें।

【नोट】:– तीन क्रिया करने के बाद अपना पूरा शरीर ढीला छोड़ दे। वापस हाथ खुला कर  दे। सबकुछ जैसा ‘पहले चरण ‘ में बताया वेसे ही करें।

3. [तीसरा चरण] –

अब आप अपने शरीर के सभी अंगों को बंद आँख से देखे। इस तरह;

● पहले अपने दाए पैर के बड़े अंगूठे को, फिर सारी पैर की उंगलियों को, फिर घुटने को, फिर जंघाओं, फिर नाभि को, फिर पेट को > फिर हाथ के अंगूठे को > हाथ की सारी अंगुलियो को > कंधों को, बाहों को > चेहरे को > मुँह को > आँख को  और अंत में अपने मष्तिष्क को। इन सबको आँख बंद करके आराम से देखना हे। एक शब्द में समझाऊ तो पैरों से दिमाग तक के सभी अंग को महसूस करें।

● यही हूबहू ऐसी प्रकिया अब बाऍ पैर (Left) और हाथ पर करनी हैं।

4. [चौथा चरण] 

इसके बाद आप चाहो, तो अपने घर, ऑफिस या आपकी कोई भी पसंदीदा जगह को पूरा आंख बंद कर देख सकते हो। उदाहरण के लिए;-  आपका घर का। अब घर की पूरी चीजे किचन, आपका कमरा, बाहर का आंगन इत्यादी। (यह  optional विकल्प हैं) अगर आप किसी आध्यात्मिक संगठन से जुड़े हो तो उसको पूरा देखो  जैसे;  पतंजलि योगपीठइस्कॉन मंदिर,
गायत्री परिवार इत्यादी। )

5. [पांचवा चरण]

अब आपको पचास बार (50 times) उल्टी गिनती शुरू करनी हैं। और मन में ही बोलना हैं। इस तरह ( 50, 49, 48,47, ) और इस तरह आपको एक या शून्य तक आते – आते खत्म कर देना हैं। इसके बाद अब आपको सांस लेनी हैं, छोड़नी हैं, बाकी कुछ भी गतिविधियां नही करनी है। अब आपको एक गहरी नींद आ जायेगी।

6. [ योगनिंद्रा का अंत समाप्ति ] –

अब योग निद्रा  के अंत में आपकी आंख खुलते ही, जमीन से उठकर पालथी मारकर बैठ जाये। और पाँच बार ॐ ओम नाम का उचारण करें।  फिर कुछ समय शांत बैठे। और हाथों को मालिश करके अपने चेहरे और गर्दन पर रगड़ें। अच्छे से चेहरे वह गर्दन पर मलिश करके उस ऊर्जा को प्राप्त करें।

योग निद्रा करने के 25  चमत्कारिक फायदे

योग निंद्रा करने के अनगिणत लाभ हैं। आइये बिंदुओं के माध्यम से समझते हैं;-

1. योग निंद्रा करने से दिमाग तेज और फुर्तीला बनता हैं।

2.  सभी प्रकार के मानसिक रोग जैसे ;- डिप्रेशन, तनाव, अवसाद, चिंता, टेंशन। यह सब खत्म हो जाते हैं।

 तनाव निराशा को दूर करने के आसान तरीके

3. योग निंद्रा  से आप 6 घन्टे की नींद एक घण्टे में पूरी कर सकते हैं।

4. जिन लोगो को नींद न आने की समस्या हैं। जो लोग नींद की गोलियां खाकर सोते हैं। उनके लिए योग निंद्रा वरदान है।

5. लगातार एक महीना योगनिंद्रा का अभ्यास करते ही, आपको इतनी गहरी नींद आएगी। की आपकी गोलियां खाने की बुरी आदत छूट जाएगी।

6. इंसान को हर दिन पाँच से सात घण्टे नींद लेनी अनिवार्य हैं। इस मिथक को हमारी Yogic Sleep योग निंद्रा ने तोड़ दिया हैं। क्योकी हम सही योगनिंद्रा के अभ्यास से अपनी नींद को कम करके उस ऊर्जा को अपने कर्म (जीवन लक्ष्य पर लगा सकते।

7. यौगिक स्लीप  योग की सबसे अहम विद्या हैं। जिसको व्यक्ति सीखकर बहुत सारी शक्तियां हासिल कर सकता हैं।

8. मेरे व्यक्तिगत अनुभव के आधार पर योगनिंद्रा करते समय जो सुख की प्राप्ति होती हैं। उस सुख को आप धन से नही खरीद सकते हैं।

9. योग निंद्रा करने के बाद आपका दिमाग एकदम शांत और प्योर हो जाता हैं। जिससे आप किसी भी काम को बहुत तेज गति के साथ संपन्न कर सकते हो।

10. योगनिंद्रा को भारत देश व दुनिया के सभी देशों के योगी, महापुरुष, सन्त-महात्मा, सफल लोग, अमीर लोग सभी हर दिन करते है। इसका नियमित रूप से अभ्यास करते हैं  इसका एक ही कारण हैं, की इनको समय ज्यादा चाहिए, अपने उद्देश्य को पूरा करने के लिए।

11. आप कभी-कभी टीवी पर,  समाचार पत्रों में या इंटरनेट पर
इस प्रकार की खबरे सुनते होंगे, ‘ यह आदमी दिन में सिर्फ 2 घण्टे ही सोता हैं। इसके बावजूद   उसके शरीर में कोई बदलाव नही आये।

12. आपको यह बात जानकार हैरानी होंगी, की योगनिंद्रा का प्रयोग दुनिया की हर मिल्ट्री फोर्स (सेना) करती हैं। खासकर इसका प्रयोग जब दो देशों के बीच युद्ध होता है। तब किया जाता हैं। जब युद्ध शुरू होता हैं, तो वह रुकता नही हैं, रात-दिन चलता है। ऐसे में जो युद्ध के बड़े-बड़े आर्मी ऑफिसर होते है। उनको आराम चाहिए होता हैं। तो वे लोग 15 मिनट की  योग निंद्रा करके पूरी रात बिना थके फ्रेश दिमाग के साथ काम करते थे।

13. योगनिंद्रा का मतलब सिर्फ नींद लेना नही हैं। अपितु अपने अवचेतन मन को पकड़कर रखना है।

14. दिनभर की भारी से भारी थकान योग निंद्रा से ख़त्म की जा सकती हैं।

शवासन और योग निद्रा में क्या अंतर हैं।

आपको जानकारी के लिए बता दूं। शवासन का हिंदी में मतलब होता हैं। मृत शरीर !  मतलब आपको शवाशन करना हैं, तो आपको सबसे पहले मरे हुए व्यक्ति की तरह जमीन पर दरी बिछाकर सोना पड़ेंगा। उसके बाद अनुभवी योग शिक्षक के निर्देशानुसार आपको वो जो  क्रिया करने को बोल बोल रहे हैं, उसको करना होंगा।  बात करे योगनिंद्रा की। तो योगनिंद्रा और शवाशन में ज्यादा कोई फर्क नही हैं। बस एक दो क्रिया योगनिंद्रा में ज्यादा होती हैं। निष्कर्ष;- दोनो योग विद्या का एक ही मकसद हैं। की आपको गहरी नींद में सुलाना और नींद की कमी को पूरा करना।

आपने इस पोस्ट में सीखा योग निद्रा कैसे करे? योग निंद्रा करने के 25 फायदे अगर आपको फायदे मिले अपने प्रियजनों के साथ इस पोस्ट को शेयर करें।  योग निद्रा से कोई भी सवाल हो, शंका हो, नीचे ब्लॉग कॉमेंट सेक्शन में सवाल पूछे। मैं उसका जवाब दूँगा।

Related Post ( इन्हें भी पढ़े )

 Disadvantage of Aluminiumसे utensils in Hindi | एल्यूमीनियम बर्तन के नुकसान

Ghar Par Herbal Tea Kaise Banaye? हर्बल टी आयुर्वेदिक चाय पीने के 10 बड़े फायदे

Subah Jaldi Uthne Ke 100 Fayde ! सुबह जल्दी कैसे उठे?

Brahma Muhurta Time in Hindi | Brahma Muhurta Benefits हिंदी में

गठिया रोग (आर्थराइटिस ) का आयुर्वेदिक इलाज

क्या आप स्किन प्रॉब्लम से परेशान हो आज मैं आपके पिम्पल्स खत्म क्र दूंगा

आँखों की देखभाल कैसे करें

योग करने के चमत्कार

चरक ऋषि के 20 निरोग जीवन जीने के सूत्र

महर्षि वाग्भट्ट जी के 65 स्वास्थ्य सूत्र कोट्स

Leave a Comment